छात्र राजनीति में भगवा बनाम गैर भगवा सर्मथकों कि लडा़ई

कुलपति पर छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह ने आरोप लगाया है की हिन्दुत्ववादी संगठनो का पक्ष लेते है

इलाहाबाद. इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय भगवा बनाम गैर भगवा समर्थको के बीच द्वंद जोर पकड़ रहा है और इसकी आॅच नवनियुक्त कुलपति प्रोफेसर रतन लाल हांगलू तक पहुॅच गयी है। कुलपति पर छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह ने यह आरोप लगाया है की हिन्दुत्ववादी संगठनो का पक्ष लेते है। ऋचा सिंह ने बीसी के खिलाफ मोर्चा खोलने का मन बना लिया है। देखना ये होगा की ऋचा सिंह का अगला कदम क्या होगा उधर कुलपति का कहना ये है की अध्यक्ष के आरोप बे बुनियाद है उनका लक्ष्य है की इविवि का नाम शैक्षिक जगत में गर्व से लिया जाए विवि का शैक्षिक माहौल बेहतर हो

छात्रसंघ अध्यक्ष का कहना है की विवि प्रशासन लगातार उनके द्वारा आयोजित कार्यक्रमों को निशाना बना रहे हैं। और विवि प्रशासन उस कार्यक्रम पर रोक लगा रहा है। लेकिन विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारियों के कार्यक्रम में ना तो कोई प्रशासनिक गतिरोध है और ना ही किसी का विरोध यहां तक की  कुलपति एबीवीपी कार्यक्रम में भागीदारी भी करते है। ऋचा ने बताया की कुलपति लगातार ये बयान दे रहे है विवि कैम्पस में आयोजित कार्यक्रमों पर रोक लगाएंगे लेकिन यह अलोकतांत्रिक है।

छात्रसंघ अध्यक्ष ने बतायाकि बीती 20 जनवरी को विवि कैम्पस में वरिष्ठ पत्रकार सिद्वार्थ वरदराजन का कार्यक्रम आयोजित था जिसमें कुलपति को अध्यक्षता करनी थी लेकिन एक दिन पहले विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारी और कार्यकर्ता कुलपति कार्यालय घेर कर कार्यक्रम पर रोक लगाने का दबाव बनाते हैं। इसपर कुलपति ने कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति को भी अस्वीकृृत कर दिया और स्वयं भी कार्यक्रम में हिस्सा नही ली जब की उसी दिन उसी समय पर छात्रसंघ भवन में विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता आचार्य शांतनु को बुलाकर प्रवचन करवाते है। उन पर विवि प्रशासन और कुलपति ने कोई कार्यवाई नही किया।

ऋचा सिंह ने कुलपति के छात्रसंघ भवन पर कार्यक्रमों के आयोजन पर रोक लगाते हुए पत्रिका के माध्यम से सवाल किया की कुलपति किस बौद्विक कार्यक्रमो को आयोजित होने देंगे इसकी परिभाषा क्या है तय करे। छात्रसंघ अध्यक्ष के इन आरोपो को कुलपति ने निराधान बताया है उनकी कोशिश है की विवि अपने पुराने गौरव को हासिल कर सके और यहां के छात्र और छात्राओं को बेहतर अवसर मिल सके।

वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारियों ने अध्यक्ष के बयान की घोर निंदा की है विवि महामंत्री सिद्वार्थ सिंह ने कहा की छात्रसंघ अध्यक्ष कैम्पस में वामपंथी विचार धारा को बढ़ावा दे रही हैं और कुलपति को गलत तरीके से इस मामले में घसीटा जा रहा है यह उनका स्वविवेक है कि वह किस कार्यक्रम जाते है और किस कार्यक्रम नही जाते हैं। एसएफआई के राज्य सचिव विकास कुमार ने कहा की विवि परिषर में तानाशाही रवैया अपनाया जा अगर विवि प्रशासन ने इसी तरह का मानक बनाएं रखा तो आगे बड़े आन्दोलन का सामना करने की भी तैयारी बना ले।
Ashish Shukla
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned