शीतकालीन सत्र में मध्यस्थता पर नया कानून लाएगा भारत : किरेन रिजिजू

केंद्रीय कानून मंत्री प्रयागराज में स्थापित होने वाले प्रस्तावित नए राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के शिलान्यास समारोह में बोल रहे थे

By: Hariom Dwivedi

Updated: 11 Sep 2021, 05:34 PM IST

प्रयागराज. केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा है कि केंद्र सरकार संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में मध्यस्थता पर एक नया कानून पेश करेगी। कानून मंत्री प्रयागराज में स्थापित होने वाले प्रस्तावित नए राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के शिलान्यास समारोह में बोल रहे थे। इस कार्यक्रम में भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमाना, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, इलाहाबाद उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश मुनीश्वर नाथ भंडारी और अन्य सम्मानित गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।
कानून मंत्री ने कहा,"संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में हम मध्यस्थता पर एक विधेयक पेश करेंगे। इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है।" उन्होंने कहा, "हम भारत को अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता का केंद्र बनाना चाहते हैं।" रिजिजू ने कहा कि केंद्र सरकार सभी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों और विधि अकादमियों के साथ मिलकर काम करने के लिए बहुत उत्सुक है। उन्होंने कहा, "हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता में विश्वास रखते हैं। हम न्यायिक प्रणाली को मजबूत करना चाहते हैं और न्यायपालिका को मजबूत बनाने के लिए कदम उठाना चाहते हैं।" उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में केंद्र सरकार उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालय के सभी न्यायाधीशों के साथ एक मजबूत संबंध विकसित करना चाहती है।

कानून मंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आम आदमी को न्याय मिले। उन्होंने कहा, समय पर न्याय को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। मंत्री ने कहा कि आम आदमी को न्याय दिलाने के लिए केंद्र न्यायपालिका के साथ मिलकर काम करेगा। कानून मंत्री ने कहा कि भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमाना ने भी विवाद समाधान प्रक्रिया में मध्यस्थता के लिए एक कानून की आवश्यकता को रेखांकित किया था।

भारत के मुख्य न्यायाधीश भारत-सिंगापुर मध्यस्थता शिखर सम्मेलन 'मध्यस्थता को मुख्यधारा में लाना, भारत और सिंगापुर से प्रतिबिंब' में अपना मुख्य भाषण दे रहे थे। सीजेआई ने कहा था कि प्रत्येक विवाद के समाधान के लिए मध्यस्थता को एक अनिवार्य पहला कदम के रूप में निर्धारित करना मध्यस्थता को बढ़ावा देने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। शायद, इस संबंध में एक सर्वव्यापक कानून की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें : राष्ट्रपति बोले- महिलाओं में न्याय की प्रवृत्ति अधिक, न्यायपालिका में बढ़े भागीदारी

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned