scriptup election 2022: Union Minister Smriti Irani reached Prayagraj | UP assembly elections 2022: मां लक्ष्मी साइकिल पर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं - स्मृति ईरानी | Patrika News

UP assembly elections 2022: मां लक्ष्मी साइकिल पर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं - स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने सोमवार को मीरापुर सब्जी मंडी तिराहे पर आयोजित जनसभा को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने कैबिनेट मंत्री को भगवान श्री राम और भगवान भोलेनाथ का सेवक बताते हुए 27 फरवरी को उनके पक्ष में मतदान करने की अपील की। कहा कि मां लक्ष्मी साइकिल पर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं, इसलिए कमल का बटन दबाएं और विकास रूपी लक्ष्मी को अपने घर लाते हुए भाजपा प्रत्याशी नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी को भारी मतों से विजयी बनाएं।

इलाहाबाद

Published: February 21, 2022 09:48:42 pm

प्रयागराज: शहर दक्षिणी विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी व उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी के समर्थन में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने सोमवार को मीरापुर सब्जी मंडी तिराहे पर आयोजित जनसभा को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने कैबिनेट मंत्री को भगवान श्री राम और भगवान भोलेनाथ का सेवक बताते हुए 27 फरवरी को उनके पक्ष में मतदान करने की अपील की।
UP assembly elections 2022: मां लक्ष्मी साइकिल पर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं - स्मृति ईरानी
UP assembly elections 2022: मां लक्ष्मी साइकिल पर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं - स्मृति ईरानी
कहा कि मां लक्ष्मी साइकिल पर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं, इसलिए कमल का बटन दबाएं और विकास रूपी लक्ष्मी को अपने घर लाते हुए भाजपा प्रत्याशी नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी को भारी मतों से विजयी बनाएं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये चुनाव निर्धारित करेगा कि गुंडाराज वापस आएगा या कमल के संरक्षण में हर कोई मुस्कुराएगा। कहा कि जिनकी साइकिल पंचर हो रही है वो तिलमिला रहे हैं।
मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने जनसभा में कहा कि उन्होंने जो कहा वो करके दिखाया। कहा कि वे प्रयागराज के नेता नहीं, बल्कि बेटे हैं। प्रयागराज शहर दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र का एक-एक घर उनका परिवार है। मंत्री नन्दी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का स्वागत एवं अभिनन्दन किया।
भारत माता की जयकारा करने में होता है गौरव का एहसास

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी जनसभा में विपक्ष पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि सपा के राज में नागरिकों ने ये मंजर देखा कि भारत को भाग्य विधाता और जननी मानने से सपा के एक नेता ने इनकार कर दिया और अपने स्कूल में जन गण मन... गाने से इनकार कर दिया। आज निस्वार्थ मन से जब भारत माता की जयकारा कोई भी नागरिक करता है तो गौरव का एहसास होता है कि निडर समाज भारतीय जनता समाज पार्टी के कारण अपनी जन्मभूमि को हर रोेज प्रणाम करता है कि देश ने प्रधान सेवक को चुना।
महादेव को प्रसन्न करना हो तो पहले नन्दी को बोलना पड़ता है

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मीरापुर में आयोजित जनसभा में भाजपा प्रत्याशी कैबिनेट मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी को भगवान शिव का सेवक नन्दी बताया। स्मृति ईरानी ने कहा कि राम की लीला देखिए नाम राम का, चुनाव नन्दी का। जिस दिन आई हूं, वह दिन महाकाल में शिव जी की नवरात्रि के रूप में मनाया जाता है। कहते हैं कि भगवान को अगर कुछ बतलाना हो तो पहले नन्दी जी से गुजरना पड़ता है, कहते हैं कि महादेव को प्रसन्न करना हो तो पहले नन्दी को बोलना पड़ता है, इसीलिए आज महादेव की एक भक्त नन्दी से कहने आई है कि आप इस चुनाव में मात्र भाजपा के प्रतिनिधि नहीं हैं, बल्कि हर उस गरीब परिवार के प्रतिनिधि हैं, जिन्हें पिछले 19 महीने मुफ्त का राशन मिला, ताकि कोरोना से प्रभावित राष्ट्र में कोई भी गरीब भूखे पेट न सोए। हर उस नागरिक के प्रत्याशी हैं, जिन्हें नरेंद्र मोदी के आशीर्वाद से कोरोना का संरक्षण प्राप्त हो, और लोगों को डोर टू डोर कोरोना का टीका लगा, ऐसे नागरिकों के प्रत्याशी। हर उस मां के प्रत्याशी हैं, जिनके घर की बेटियां आज चैखट लांघने से पहले भयभीत नहीं होती हैं।

यह भी पढ़ें

UP assembly elections 2022: पांच साल तक जो आपने देखा वह ट्रेलर था, अभी तो पूरी पिक्चर बाकी है- राजू श्रीवास्तव

राम मंदिर बनाने का लिया था संकल्प जो हो रहा है पूरा

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि ये अपने आप में मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि आज जिस प्रयागराज की पावन धरती से आशीर्वाद मांगने आई, इसी धरती से कई महापुरूषों ने बिना मांगे बहुत कुछ पाया, ये हमारे लिए गौरव की बात है कि जिस पार्टी के लिए आज आपका स्नेह अपनी पार्टी के लिए मांगने आई, उसी धरती पर एक यश्स्वी राजा भी पधारे थे, कामना लेकर संतान की। संतान का नाम था राम। राम की महिमा ऐसी कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने वर्षों वष तपस्या और संघर्ष किया कि जहां जन्म लिया प्रभु श्री राम ने वहां राम मंदिर जरूर बनाएंगेे। यह संघर्ष मात्र अधिकारों की लड़ाई नहीं थी, वाद विवाद का संघर्ष नहीं था बल्कि बहुतों ने अपने प्राणाों की आहुति दी, सपा के राज में लाठी खाई, गोली खाई मौत के घाट राम भक्त उतारे गए। तब भी ये समाज ये कहता रहा कि जहां जन्म हुआ श्री राम का मंदिर वहीं बनाएंगे।
उपहास के भागी बने हम, सपा और काांग्रेस वाले कहते थे कि मंदिर वहीं बनाएंगे, लेकिन तारीख नहीं बतााएंगे। ये प्रभु श्री राम की लीला है, मां भाारती का आशीर्वाद है कि तारीख बताने वाला गुजरात के एक गरीब परिवार में मां की कोख में जन्म लेता है। जनता का आशीर्वाद प्राप्त करके देश का प्रधान सेवक बनता है। जो कहता है कि बहुमत होने के बाद भी संविधान के सम्मान में हम सुप्रीम कोर्ट जाएंगे, लेकिन मंदिर तो वहीं बनाएंगे। सुप्रीम कोर्ट के सम्मान में पूरे समाज ने इंतजार किया। इंतजार में प्रभु ने भी परीक्षा ली, विपक्ष ने भी परीक्षा ली। विपक्ष ने तो ये चुनौती दे डाली कि अगर निर्णय समाज के पक्ष में हुआ तो खून की नदियां बह जाएंगी। राम की लीला देखिए, प्रभु का आशाीर्वाद देखिए कि भारतीय जनता पार्टी सरकार की प्रतिबद्धता देखते रहिए कि विपक्ष धमकाता रहा कि खून की नदियां बहाएंगे, लेकिन योगी की सरकार में मच्छर तक नहीं मरा।
पूर्ण रूप से कानून व्यवस्था को सुदृढ़ कर सौहार्द की दृष्टि से समाज में कोई भी अपराधिक तत्व धर्म के आधार पर फूट न डाले, समाज का विभाजन न करे, इस संकल्प के साथ सुप्रीम कोर्ट के आर्डर का पूर्णतः पालन किया और राम की लीला देखिए कि जहां जन्म हुआ प्रभु श्री राम का मंदिर वहीं बनाएंगे। एक तरफ सपा के नेताओं ने धमकाया, दूसरी तरफ कांग्रेस के गांधी खाननदान के लोगों ने कोर्ट में दस्तावेज दिया।
यह भी पढ़ें

UP assembly elections 2022: पांच साल तक जो आपने देखा वह ट्रेलर था, अभी तो पूरी पिक्चर बाकी है- राजू श्रीवास्तव

जो प्रभु श्री राम का अस्तित्व नकारते थे, अब जनेऊ पहन कर मंदिर-मंदिर जा रहे

एक तरफ विपक्ष संविधान, सुप्रीम कोर्ट और धार्मिक इंसाफ के सामने घुटने टेकता है और दूसरी तरफ वो कांग्रेस पार्टी जो प्रभु श्री राम का अस्तित्व नकारती है, आज उनका वारिश जनेऊ पहनकर मंदिर-मंदिर घूम रहा है। आज ये हमारा सौभाग्य है कि भव्य राम मंदिर के निमार्ण में अहम भूमिका निभाने का आशीर्वाद प्रभु श्री राम ने प्रधान सेवक को, आपके प्रतिनिधि योगी आदित्यनाथ को और भाजपा के कर्मठ कार्यकर्ताओं द्वारा स्थापित संगठन के माध्यम से बनाई हुई सरकार को दिया, इतने बड़े पुण औरर भव्य काम के लिए जनता ने जो आशीर्वाद दिया है, आज उस आशीर्वाद का आभार व्यक्त करने आई हूं।
राम राज्य की कल्पना का मतलब हर महिला, बुजुर्गों सम्मान, युवा और समाज का उत्थानः स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जिस राम का नाम हम लेते हैं, उस राम के नाम से राज्य स्थापित करने की अभिलाषा हम करते हैं तो उस राम राज्य मेें हम क्या पाते हैं कि राम राज्य की कल्पना मतलब हर महिला का सम्मान, बड़ों का सम्मान, युवा का उत्थान, समाज का उत्थान, इसलिए आज नन्दी जी की ओर से कहने आई हूं, कि ये चुाव मात्र एक विधानसभा का चुनाव नहीं है। ये चुनाव निर्धारित करेगा कि गुंडाराज वापस आएगा या कमल के संरक्षण में हर बच्चा मुस्कुराएगा, हर बेटी लहलहाएगी, सम्मान के साथ स्कूल और काॅलेज जाएगी। आज राम राज्य की जब हम बात करते हैं तो वह ऐसी कल्पना है कि जिसमें संरक्षण होता है गुंडों का नहीं, गरीब का। आज मन प्रफुल्लित होता है कि कुछ ही दूर एक ऐसा स्थल है, जिस पर निर्मित था गुंडों का घर, उनकी जायदाद, लेकिन उस पर बुल्डोजर चला और आज उसी जमीन पर गरीब के लिए घर बन रहा है।
सपा के नेताओं ने धमकाया, दूसरी तरफ कांग्रेस के गांधी खाननदान के लोगों ने कोर्ट में दस्तावेज दिया।

यह भी पढ़ें

UP assembly elections 2022: अनुप्रिया पटेल ने साधा बड़ी बहन पल्लवी पटेल पर निशाना, जाने क्यों लेगी परिवार से बदला

ये चुनाव निर्धारित करेगा कि आने वाला समय हमारी बहुत बेटियों के लिए सुरक्षित समय है कि नहीं
ये चुुनाव उस गरीब का चुनाव है, जिसके लिए आज माफिया की जमीन पर बुल्डोजर चला कर ध्वस्त करके ऐसी इल्लीगल व्यवस्था को लीगल मकान गरीब के लिए बनवाने वाली पार्टी भारतीय जनता पार्टी है। ये चुनाव निर्धारित करेगा कि आने वाला समय हमारी बहु बेटियों के लिए सुरक्षित समय है कि नहीं, गरीब को उसका राशन, उसका अधिकार पूर्णतः मिलेगा या नहीं। कमल का बटन दबाएंगे, नन्दी भैया को जिताएंगे। जिनकी साइकिल पंचर हो रही है वो तिलमिला रहे हैं। जनता जनार्दन सुरक्षा देने और समाज को विकसित करने वाली सरकार बनाना चाहती है और जब साधारण नागरिक विकास की परिकल्पना करता है तो उस विकास को लक्ष्मी के स्वरूप में जानता है और पाता है।
लक्ष्मी का स्वभाव है कि लक्ष्मी जब घर आती है तो साइकिल पर बैठ कर नहीं, कमल पर बैठ कर आती हैं। इसलिए लक्ष्मी को घर लाना है तो कमल पर बटन दबाना है। 27 को पोलिंग बूथ पर जाएंगे, कमल का बटन दबाएंगे और विकास रूपी लक्ष्मी को अपने घर ले आएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते होकपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के टिकट से जाएंगे राज्यसभा, बताई कांग्रेस छोड़ने की वजह16 वर्षीय ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानानंद ने रचा इतिहास, चेसेबल मास्टर्स के फाइनल में पहुँचने वाले पहले भारतीयलोकसभा चुनाव वाला Yogi का बजट, धर्म के साथ रोजगार, युवा, किसान, महिलाओं को जोड़ेगी सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.