वीरेंद्र यादव की घर के बाहर गोलीमार कर हत्या,इलाके में तनाव कई थानों की फ़ोर्स तैनात

वीरेंद्र यादव की घर के बाहर गोलीमार कर हत्या,इलाके में तनाव कई थानों की फ़ोर्स तैनात
up police

Prasoon Kumar Pandey | Updated: 19 Nov 2018, 12:15:51 AM (IST) Allahabad, Allahabad, Uttar Pradesh, India

2016 के चर्चित नैनी जेल हत्याकांड मामले में था आरोपी,जमानत पर था बाहर

प्रयागराज: झुंसी इलाके के शेरडीह गांव में वीरेंद्र यादव की बदमाशों ने गोली कर हत्या कर दी गई। हत्या की सूचना पर जिले के आलाधिकारी मौके पर पहुंचकर जांच में जुटे रहे।हालांकि यह मामला सालों से चली आ रही रंजिश से जोड़कर देखा जा रहा है।वीरेंद्र यादव एक साल बाद नैनी जेल से जमानत पर छूट कर आया है। बता दें कि वीरेंद्र यादव का नाम 2016 के चर्चित नैनी जेल शूट आउट कांड में आया था।

जानकारी के अनुसार वीरेंद्र यादव रविवार की रात अपने घर के बाहर शिरडी गांव में खड़ा था।तभी बाइक सवार अज्ञात हमलावरों ने वीरेंद्र पर अंधाधुंध फायर झोंक दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई ।गोली चलने की आवाज के बाद आसपास के लोग इकट्ठे हुए। आनन.फानन में वीरेंद्र को स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।शेरडीह में हत्याकांड का मामला सामने आते ही अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए।बता दें कि झूंसी का शेरडीह इलाका कई सालों से गैंगवार की आग में झुलस रहा है।

दरअसल शेरडीह में कई सालों से चली आ रही चुनावी रंजिश खूनी हो चुकी है। वीरेंद्र यादव का नाम 5 जून 2016 में नैनी सेंट्रल जेल के बाहर तिहरे हत्याकांड मामले में आया था।दर्शन 2008 में शेरडीह गांव में चुनावी रंजिश के चलते एक हत्या हुई। जिसमें गांव के पूर्व प्रधान चंद्रभान यादव पर आरोप लगा और इस मामले में कई सालों से चंद्रभान यादव जेल में बंद है।5 जून 2016 को चंद्रभान से मिलने उनका भाई लालता बेटा ज्ञान चंद्र और परिवार के लोग जेल गए थे। मुलाकात के बाद शाम को जेल से वापस आते समय ज्ञानचंद और अन्य लोगों पर नैनी जेल के बाहर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई गई थी।जिसमें दो लोगों की मौके पर मौत हो गई थी।

नैनी जेल हत्याकांड मामले में वीरेंद्र यादव नामजद आरोपी नहीं था।लेकिन जानकारों की मानें तो विवेचना में इसका नाम सामने आया और यह एक साल तक जेल में बंद था। कुछ दिनों पहले ही यह जेल से छूटा है। बताया जा रहा है कि दो दशक से चली आ रही चुनावी रंजिश अब गैंगवार में तब्दील हो चुकी है। एक बार फिर शेरडीह में गोलियां तड़तडाई है। घर के बाहर वीरेंद्र यादव की हत्या कर दी गई पूरे इलाके में तनाव के चलते भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। बता दें कि 2016 में नैनी जेल हत्याकांड के बाहर शेरडीह गांव में दो दिनों तक जमकर बवाल चला था।कई महीनों शेरडीह में पीएसी ने अपना कैम्प किया था।एक बार फिर पूरे इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है। जिसको देखते हुए प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned