अलवर: रिश्वत के मामले में इस थानेदार को पाया दोषी, इतने साल की मिली सजा, पुलिस महकमे में हडक़ंप

अलवर: रिश्वत के मामले में इस थानेदार को पाया दोषी, इतने साल की मिली सजा, पुलिस महकमे में हडक़ंप

Rajeev Goyal | Publish: Jan, 23 2018 10:05:39 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर में तीन साल पुराने रिश्वत के मामले में इस थानेदार को अदालत ने सजा सुनाई है।

विशिष्ट न्यायाधीश भ्रष्टचार निवारण ने तीन साल पुराने प्रकरण में चांदपोल बाजार जयपुर निवासी अशोक यादव को चार साल की सजा व 5 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया है।

विशिष्ट न्यायाधीश हनुमान प्रसाद ने मामले में दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 के आरोप में 4 साल के कठोर कारावास व 5 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया है। घटना के दौरान ततारपुर थाने में थानेदार के पद पर कार्यरत थे। प्रकरण के अनुसार 29 सितंबर 2014 को परिवादी धर्मवीर जब जीप में सवार होकर सोडावास से जा रहा था तो ततारपुर गांव से पहले सडक़ किनारे खड़ी एक मोटरसाइकिल उसकी जीप से टकरा गई। वह रूका नहीं और आगे बढ़ गया। ततारपुर थाने के सामने एक सिपाही ने उसे रोका और जीप को थाने में ले जाकर खड़ी कर दी। वहां उसे थानेदार अशोक यादव के पास ले जाया गया। कुछ ही देर में अनिल नामक व्यक्ति मोटरसाइकिल को लेकर थाने पर आया और उसने मोटरसाइकिल की मरम्मत कराने की बात कही। इस मामले में थानेदार अशोक यादव ने कानूनी कार्रवाई नहीं करने की एवज में 13000 रुपए की मांग की। मामला 8000 रुपए में निपटाना तय हुआ। इसकी शिकायत धर्मवीर ने एसीबी में की। 30 अगस्त 2014 को नियमानुसार शिकायत का सत्यापन करवाया गया तो मामला सही पाया गया। ततारपुर थाने में थानेदार यादव को 8 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों रिश्वत की राशि लेते हुए गिरफ्तार किया गया।

लोक अभियोजक मुरारीलाल शर्मा ने बताया कि मामले के अनुसार 28 अक्टूबर 2014 को यह मामला न्यायालय में पेश हुआ। उन्होंने बतया कि जितनी अवधि पुलिस अथवा अभिरक्षा में बिताई वह अवधि मूल सजा की अवधि में समायोजन के योग्य होगी।

तस्करी के आरोपित को 12 साल की सजा

जिला एवं सैशन न्यायाधीश अशोक कुमार व्यास ने मादक पदार्थ अफीम व स्मैक की तस्करी के आरोप में एक जने को 12 वर्ष के कठोर कारावास एवं एक लाख रुपए अर्थदण्ड की सजा सुनाई है। उद्योग नगर थाना क्षेत्र के ठेगी का बास साहडोली निवासी रफीक पुत्र धम्मन से 21 दिसम्बर 2012 को उपअधीक्षक वृत्त दक्षिण अशोक कुमार मीना ने पांच किलो अफीम व 180 ग्राम हेरोइन (स्मैक) बरामद की। लोक अभियोजक विनोद कुमार शर्मा ने बताया कि मामले में पुलिस के न्यायालय में आरोप पत्र पेश करने के बाद सोमवार को जिला एवं सैशन न्यायाधीश ने आरोपित रफीक को दोष सिद्ध ठहरा सजा सुनाई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned