सरकार देती है हजारों रुपए तनख्वाह, फिर भी भेड़ों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के लिए मांगी रिश्वत, रंगे हाथों पकड़ा गया

पशु चिकित्सक ने रिश्वत ली, रिश्वत भी भेड़ों की पोस्टमार्टम बनाने के लिए, एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ लिया।

अलवर. अलवर जिले के बानसूर कस्बे में एसीबी की टीम ने गुरुवार देर शाम एक पशु चिकित्सा अधिकारी एवं उसके प्राइवेट पशु धन सहायक को पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। एसीबी टीम की कार्रवाई देर रात तक पुलिस थाने पर चली। एसीबी के उपाधीक्षक महेंद्र मीणा ने बताया कि गांव खरखड़ी तन ज्ञानपुरा निवासी ताराचंद गुर्जर ने एसीबी कार्यालय अलवर में शिकायत की थी कि पशु चिकित्सालय बानसूर के चिकित्सा अधिकारी भेड़ों के पोस्टमार्टम रिपोर्ट को तैयार करने के लिए सात हजार रुपए की रिश्वत मांग रहे हैं। इस पर एसीबी ने इसका सत्यापन कराया। आरोपी ने 500 रुपए की रिश्वत पूर्व में ले ली एवं पांच हजार बाद में देना तय हुआ।

इस पर गुरुवार को एसीबी टीम ट्रेप कार्रवाई की योजना बनाकर पहुंची और आरोपी के बानसूर बाइपास रोड पर किराए के मकान के बाहर पशु चिकित्सक डॉ. राजेंद्र प्रसाद एवं उसके सहयोगी रवि यादव को पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। रिश्वत की राशि प्राइवेट पशु धन सहायक रवि यादव की टीशर्ट की बाजू से बरामद की गई। कार्रवाई को देखकर दोनों आरोपी भागने लगे, जिन्हें दबोच लिया। 6 फरवरी को जंगली जानवर के हमले में 27 भेड़ों की मौत हो गई थी। इस पर पशु चिकित्सा अधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने पीडि़त से पोस्टमार्टम रिपोर्ट के लिए रिश्वत की मांग की थी।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned