अलवर गौतस्करी मामले के तमाम तथ्य जो आपको जरूर जानने चहिए

अलवर गौतस्करी मामले के तमाम तथ्य जो आपको जरूर जानने चहिए

Rajeev Goyal | Publish: Dec, 07 2017 12:45:31 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर गौतस्करी मामले में जयपुर से आई टीम ने जांच शुरू कर दी है। जल्द और खुलासे होने की उम्मीद है।

अलवर में शुक्रवार रात हुई पुलिस व गौतस्करों की भिडंत में मारे गए गौतस्कर की पहचान तसलीम निवासी गांव तलाहेड़ी मेवात नूह के रूप में हुई है। वहीं मौके पर जयपुर से आई जांच टीम ने जांच शुरू कर दी है।

 

अलवर शहर में आए दिन हो रही गौ तस्करी से लोगों में दहशत फैल रही है। घटना के बाद लोग घरों के बाहर नहीं निकले।

2-3 दिन से गाड़ी शहर में घूम रही थी गाड़ी

 

पुलिस ने मुठभेड़ के बाद जब्त की गाड़ी 2-3 दिन पहले से ही शहर में घूम रही थी। यही गौतस्कर कुछ दिनों से शहर में खुलेआम दहशत मचाए हुए थे। 2 दिन पहले ही शहर के जुबली बास चौराहे पर पूर्व एएसपी के पुत्र आशीष शर्मा की कार को इन्हीं गौतस्करों ने टक्कर मारी थी।

 

शहर बन रहा सॉफ्ट टारगेट


अलवर शहर में आए दिन हो रही गौतस्करी की घटना से यह बात तो साफ है कि अलवर शहर अब गौ तस्करों के लिए सॉफ्ट टारगेट बन रहा है। आमतौर पर गावों में गौ तस्करी की घटनाएं गावों में होती है, लेकिन आजकल अलवर शहर में कई आवारा पशु सारे दिन घूमते हैं, इन्हीं पशुओं को रात में गौ तस्कर आसानी से अपना निशाना बना रहे है।


गौ तस्करों के पास आधुनिक हथियार


पुलिस ने मुठभेड़ के बाद कई आधुनिक हथियार बरामद किए है, जिसमें 7 एमएम की पिस्टल शामिल है। ऐसे आधुनिक हथियार बरामद होने के बाद लोगोंं में दहशत बढ़ गई है। लोगों का कहना है कि ऐसे आधुनिक हथियार रखने के बाद गौतस्कर किसी पर भी आसानी से फायर कर सकते है।


जयपुर से आई एफ.एस.एल. टीम कर रही गाड़ी की जांच


घटना के बाद जयपुर से अलवर आई एफ.एस.एल. की टीम बरामद गाड़ी की जांच कर रही है। टीम के साथ अलवर एसपी भी मौके पर मौजूद है।

4 लोग थे सवार


गौतस्करी की घटना के समय गाड़ी में 4-6 लोग सवार थे। जो एनकांउटर के समय ही भाग खड़े हुए।
पंचर गाड़ी को 2 किलोमीटर तक दौड़ाया। गौतस्करों की पुलिस के साथ कई जगहों पर मुठभेड़ हुई। इसमें गौतस्करों के वाहन का टायर पंचर हो गया। इसके बावजूद भी गौ तस्करों ने गाड़ी को 2 किलोमीटर तक दौड़ाया। गाड़ी रफ्तार में होने के कारण टायर की तेज आवाज सुन कई लोग घरों से निकले।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned