गांवों में शहरों से अधिक कोरोना को लेकर जागरूकता

अलवर.
संभागीय आयुक्त के.सी वर्मा ने कहा कि गांवों में ज्यादातर लोग चौकस है तथा उन्होंने अपने स्तर पर ही रास्ते अवरूद्ध कर कफ्र्यू जैसी व्यवस्था कर रखी है।

By: Prem Pathak

Published: 12 May 2020, 11:54 PM IST

अलवर.
संभागीय आयुक्त के.सी वर्मा ने कहा कि गांवों में ज्यादातर लोग चौकस है तथा उन्होंने अपने स्तर पर ही रास्ते अवरूद्ध कर कफ्र्यू जैसी व्यवस्था कर रखी है। वहां जो लोग बाहर से आ रहे हैं, उन्हें होम क्वॉरंटीन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शहरों में भी इसी तरह की जागरुकता की आवश्यकता है। संभागीय आयुक्त जिला कलक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों से फीडबैक लेकर उन्हें निर्देश दे रहे थे।

अब बढ़ेंगे पुलिस के काम-

पुलिस महानिरीक्षक रेंज द्वितीय एस.सेंगाथिर ने कहा कि पुलिस प्रशासन को आने वाले समय में अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है। जैसे-जैसे सक्रमण के केस बढ़ेंगे वैसे ही पुलिस के कार्य भी बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि कम्युनिटी में संक्रमण नहीं फैले, इसके लिए हमें विशेष चौकस रहने की जरूरत है।

जिला कलक्टर इन्द्रजीत सिंह ने संभागीय आयुक्त व आईजी को कोविड-19 की रोकथाम को लेकर प्रशासनिक व्यवस्थाओं का फीडबैक दिया। जिले में अब तक 16 लाख 28 हजार भोजन पैकेट भामाशाहों के माध्यम से दिए गए हैं। फिलहाल 25 हजार भोजन पैकेट प्रतिदिन भामाशाहों की ओर से दिए जा रहे हैं। मध्य प्रदेश व उतराखण्ड में श्रमिकों को बसों के माध्यम से पहुंचाया जा रहा है। इसी तरह बिहार व उत्तरप्रदेश के लिए रेलों से पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है।

पुलिस अधीक्षक अलवर परिस देशमुख ने बताया कि जिले में 14 दिनों का कफ्र्यू लगाया गया है। शहर में 6 स्थानों पर कफ्र्यू है, जिले की कानून व्यवस्था नियंत्रण में है। होम आइसोलेशन की अवेहलना करने वाले दो लोगों के विरूद्ध मुकदमें दर्ज किए गए हैं।

Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned