अलवर के कपास की मांग अब चीन में भी, किसानों के लिए बन रही फायदे का सौदा

Hiren Joshi | Publish: Nov, 10 2018 02:09:28 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 02:14:51 PM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/alwar-news/

अलवर के कपास की मांग अब लगातार बढ़ती जा रही है। इसी वजह से अब जिले में कपास का उत्पादन भी बढ़ रहा है। पिछले 4 साल में अलवर जिले में कपास का उत्पादन दोगुने से अधिक हो गया है। अलवर जिले में इस बार कपास की 3 लाख 50 हजार गांठो के करीब उत्पादन हुआ है। वर्ष 2013-14 में यहा डेढ़ लाख गांठ रहा था। वहीं गत वर्ष 3 लाख 10 गांठों का उत्पादन हुआ था। इस बार चीन व बांग्लादेश सहित अन्य देशों मे अलवर के कपास की मांग अधिक है। अलवर-खैरथल लाइन के पास अधिक गुणवत्तापूर्ण होने से देश के विभिन्न हिस्सों में इसकी मांग बनी हुई है।

व्यापारियों के अनुसार इस बार जिले से 80 हजार गांठ कपास का निर्यात हुआ है। कपास का रकबा बढऩे से बाजरे के क्षेत्रफल पर असर पड़ रही है। कपास की मांग बढऩे से अलवर शहर सहित खैरथल, बहरोड़ सहित अन्य क्षेत्रों में कपास की संख्या बढ़ रही है। कपास के उत्पादन में बढ़ोतरी के साथ जिले में कपास की रूई व बीज अलग करने वाली फैक्ट्रियों की संख्या बढ़ रही है। पांच साल पहले तक अलवर शहर की मंडी में कपास की फसल की आवक तक नहीं होती थी, अब शहर की मंडी में भी कपास बहुतायात मात्रा में आने लगा है। इस बार भी बड़ी मात्रा में कपास अलवर मंडी में आया है। अलवर की कपास का निर्यात एक्सपोर्टर्स के माध्यम से चीन, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, थाइलैंड, व बर्मा में भी किया जा रहा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned