खुशखबरी: राजस्थान में यहां 900 करोड़ के अस्पताल में निःशुल्क इलाज मिलेगा, ऑपरेशन, रहना-खाना सब मुफ्त

बुधवार से यहां आम लोगों को चिकित्सकीय परामर्श, उपचार, जांच, भर्ती, दवाई आदि की निशुल्क सुविधा मिलेगी। आगामी कुछ दिनों में यहां ऑपरेशन भी शुरू हो जाएंगे।

By: Lubhavan

Published: 03 Mar 2021, 11:40 AM IST

अलवर. जिले के एमआईए स्थित इएसआईसी अस्पताल में आम लोगों के इलाज का सपना साकार होने जा रहा है। बुधवार से यहां आम लोगों को चिकित्सकीय परामर्श, उपचार, जांच, भर्ती, दवाई आदि की निशुल्क सुविधा मिलेगी। आगामी कुछ दिनों में यहां ऑपरेशन भी शुरू हो जाएंगे। इएसआईसी अस्पताल व मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक डॉ. विवेक तिवाड़ी ने बताया कि मंगलवार को मेडिकल कॉलेज की कार्यकारी डीन प्रो. डॉ. हरनाम कौर समेत 33 चिकित्सकों ने कार्यभार ग्रहण कर लिया है। इनमें सुपर स्पेशलिटी सर्जरी, कार्डियोलॉजी, बाल चिकित्सा सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी, न्यूरोलॉजी की व्यवस्था होगी। इसके साथ ही हड्डी रोग, दंत रोग, स्त्री रोग, नेत्र रोग, शिशु रोग, चेतना विभाग आदि के चिकित्सकों ने भी कार्यभार संभाल लिया है। इसके बाद जल्द ही 330 बैड की सुविधा भी शुरू हो जाएगी। गौरतलब है कि मार्च 2018 से अब तक यहां 50 बैड का अस्पताल संचालित था, जिसकी सुविधाओं में विस्तार किया गया है।

अलवर शहर के इएसआईसी अस्पताल तक चलेंगी नि:शुल्क बसें

अलवर शहर से इएसआईसी अस्पताल तक नि:शुल्क सिटी बसें चलाई जाएंगी। इसके लिए टेंडर जारी कर दिया गया है। अलवर बस स्टैंड से चलकर बस काला कुआं स्थित इएसआईसी डिस्पेंसरी, राजीव गांधी सामान्य अस्पताल, शिशु चिकित्सालय, अलवर रेलवे स्टेशन होती हुई इएसआईसी अस्पताल पहुंचेगी। इसके लिए दो बसें चलाई जाएंगी। जो प्रतिदिन 5-5 फेरे करेंगी। गौरतलब है कि अलवर शहर से एमआईए में स्थित मेडिकल कॉलेज के भवन की दूरी 12 किलोमीटर है। वहां जाने के लिए परेशानी न हो, इसलिए नि:शुल्क बस सुविधा शुरू की गई है। जिन्हें इएसआईसी अस्पताल जाना है, केवल वही लोग इस बस में बैठ सकेंगे। बीच में यह बस नहीं रुकेंगी।

900 करोड़ की लागत में विश्व स्तरीय सुविधाएं

900 करोड़ रुपए की लागत से बने मेडिकल कॉलेज भवन में विश्व स्तरीय सुविधाएं हैं। 30 एकड़ भूमि में बने इस परिसर में मेडिकल कॉलेज, अस्पताल के आलावा 200 स्टाफ के रहने के लिए फ्लैट बने हुए हैं। सभी अधिकारी स्तर के लोगों के लिए अलग से विला बने हुए हैं। इसके साथ ही इंडोर स्टेडियम, इंडोर ऑडिटोरियम, मोर्चरी, कैंटीन, लाइब्रेरी सहित तमाम सुविधाएं हैं। पूरा मेडिकल कॉलेज सेंट्रलाइज एसी से लैस है। मेडिकल कॉलेज में इलाज के लिए आने वाले मरीजों के परिजनों के भी लिए भी रुकने की व्यवस्था है। मेडिकल कॉलेज में विदेशी व इंडियन तकनीक के ऑपरेशन थिएटर भी हैं। इसके आलावा मरीज को रहने-खाने की सुविधा की नि:शुल्क मिलेंगी।

मेडिकल कॉलेज जून-जुलाई से शुरू होगा

इएसआईसी मेडिकल कॉलेज को भी केंद्र सरकार की ओर से हरी झंडी मिल चुकी है। मेडिकल कॉलेज में 100 सीटें होंगी, जिन्हें इस सत्र में नीट के जरिए प्रवेश मिल जाएगा। मेडिकल कॉलेज बड़ा राजनीतिक मुद्दा बना। राजनीति के चलते इसमें देरी भी हुई। आखिरकार 11 दिसंबर 2020 को मेडिकल कॉलेज को मंजूरी मिल गई।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned