scriptalwar letest news | कोरोनाकाल में बाजार रहा बेजार, सरकार की तिजोरी खूब भरी | Patrika News

कोरोनाकाल में बाजार रहा बेजार, सरकार की तिजोरी खूब भरी

अलवर. करीब दो साल से कोरोना की मार झेल रहे अलवर जिले का बाजार नहीं बच पाया, लंबे लॉक डाउन की मार झेलने से व्यापारियों एवं उद्यमियों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ा, लेकिन कोरोनाकाल में भी सरकारी महकमें सरकार की तिजारो भरने में पीछे नहीं रहे।

अलवर

Updated: December 23, 2021 12:22:02 am

अलवर. करीब दो साल से कोरोना की मार झेल रहे अलवर जिले का बाजार नहीं बच पाया, लंबे लॉक डाउन की मार झेलने से व्यापारियों एवं उद्यमियों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ा, लेकिन कोरोनाकाल में भी सरकारी महकमें सरकार की तिजारो भरने में पीछे नहीं रहे। जीएसटी, वैट, खनन, काऊ सैस सहित अन्य विभागों ने लॉक डाउन की मार के बाद भी सरकार की तिजोरी खूब भरी। कोरोनाकाल में सरकार को 688 करोड़ का वैट मिला। यह राशि केवल अलवर जिले में मिले वैट की है, जबकि अलवर जिले में बिके पेट्रोल- डीजल का वैट प्रदेश मुख्यालय पर सीधे ऑयल कम्पनी ने जमा कराया, इस हिसाब से अकेले वैट ने ही सरकार की तिजोरी खूब भरी।
कोरोनाकाल में बाजार रहा बेजार, सरकार की तिजोरी खूब भरी
कोरोनाकाल में बाजार रहा बेजार, सरकार की तिजोरी खूब भरी
जिले में कोरोनाकाल के दौरान ज्यादातर समय व्यावसायिक प्रतिष्ठान, उद्योग एवं अन्य व्यावसायिक गतिविधियां ठप रही। इससे बाजार को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा। कोरोनाकाल में केन्द्र व राज्य सरकार की राहत भी बाजार को बूम नहीं दे पाई। इसी का नतीजा है कि छोटे व्यवसायों पर ताले पड़ गए, वहीं बड़े व्यवसाय एवं उद्योग भी मंदी की मार को नहीं झेल पाए। बाजार में मंदी का दौर जारी रहने से बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार से हाथ धोना पड़ा। बाजार में मंदी व व्यवसायों को नुकसान का सीधा असर जिले की अर्थ व्यवस्था पर पड़ा, जिससे उनकी क्रय शक्ति कम हो गई। हालांकि निजी क्षेत्र को कोरोना की बड़ी मार झेलनी पड़ी, लेकिन सरकारी महकमें राजस्व जुटाने में पीछे नहीं रही।
कोरोनाकाल में राजस्व में 70 फीसदी का आया उछाल
कोरोनाकाल में व्यापारी, उद्यमी से लेकर आम व्यक्ति की जेब खाली हो गई, वहीं सरकार को मिलने वाले राजस्व में बड़ा उछाल आया। अकेले अलवर संभाग में आईजीएसटी, सीजीएसटी, एसजीएसटी, सैस आदि में वर्ष 2020-21 से 2021-22 के बीच 70.15 प्रतिशत का बड़ा उछाल आया। वहीं पूरे प्रदेश में राजस्व की ग्रोथ 731.92 प्रतिशत की रही।
अलवर संभाग के राजस्व की ग्रोथ

वर्ष आइजीएसटी सीजीएसटी सीजीएसटी सैस कुल राजस्व
2020-21 126600.86 34395.10 52525.49 6802.90 220324.35

2021-22 191769.31 54958.45 92260.61 35889.51 374877.89
ग्रोथ प्रतिशत 51.48 59.79 75.65 427.56 70.15

वैट, काऊ सैस व सीएसटी से 829 करोड़ की आय
कोरोनाकाल के दौरान वर्ष 2020-21 में अलवर जिले को 688 करोड़ से ज्यादा वैट मिला, वहीं 5 करोड़ से ज्यादा सीएसटी तथा 136 करोड़ रुपए से ज्यादा का राजस्व काऊ सैस के रूप में मिला। यानि कोरोनाकाल में सरकार को 829 करोड़ से ज्यादा राशि मिली।
खनन ने भी भरे भंडार
कोरोनाकाल के दौरान व्यावसायिक व औद्योगिक गतिविधियां ठप रही, लेकिन खनन व खनन सामग्री परिवहन से सरकार को बड़ी आय हुई। वर्ष 2020-21 में खनन विभाग से सरकार को अकेले अलवर जिले से 80 करोड़ से ज्यादा की राशि मिली।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचे पीएम मोदी, शहीद जवानों को करेंगे नमनRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदRepulic Day 2022: जानिए क्या है इस बार गणतंत्र दिवस की थीमस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयLucknow Super Giants : यूपी की पहली आईपीएल टीम का नाम है लखनऊ सुपर जाइंट्सअप्राकृतिक संबंध बनाने से इंकार करने पर मासूम की हत्या, 20 साल के दरिंदे ने मुरुम में दबा दिया था शवRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर इस बार परंपराओं में बदलाव, जानिए परेड में आपको पहली बार कौन सी चीजें दिखेंगी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.