अलवर नगर परिषद के पिछले कार्यकाल में हुए भ्रष्टाचार की परतें खोलेगा नया बोर्ड, जल्द शुरु होगी जांच

Alwar Nagar Parishad : अलवर नगर परिषद का नया बोर्ड पुराने बोर्ड के समय हुए घपलों पर नजर रखेगा, घोटालें की परतें खोलने की तैयारी की जा रही है।

By: Sujeet Kumar

Updated: 03 Dec 2019, 11:29 AM IST

अलवर. शहर की सरकार के पुराने भ्रष्टाचार की परतें खोलने की तैयारी में है। नालों की सफाई निर्धारित समय में नहीं होने पर अलवर नगर परिषद की ओर से ठेकेदार पर लगाई लाखों की पेनल्टी मामले में जल्द ही निर्णय होने की संभावना है।
अलवर नगर परिषद के सफाई ठेकेदार को 30 जून 2019 तक शहर के सभी नालों की सफाई करनी थी, लेकिन ठेकेदार ने निर्धारित समय में नालों की सफाई कार्य पूरा नहीं किया। नगर परिषद आयुक्त ने ठेकेदार पर करीब 14 लाख रुपए की पेनल्टी लगाई थी।

एजेंडे में शामिल कराया

ठेकेदार ने अपना पक्ष रखने के लिए नगर परिषद के पुराने बोर्ड के समक्ष अपील की। बोर्ड ने इस मामले को चर्चा के लिए नगर परिषद की कार्यपालक कमेटी में रखा, लेकिन आयुक्त ने विशेषाधिकार का इस्तेमाल करते हुए मामले को बोर्ड बैठक के एजेंडे में शामिल करा दिया था।

एजेंडे में रखेंगे

नालों की सफाई निर्धारित समय में नहीं होने पर ठेकेदार पर करीब 14 लाख रुपए की पेनल्टी लगाई थी। इस पर बोर्ड की बैठक में निर्णय होना है। सभापति की आज्ञा से इसे जल्द बोर्ड की बैठक के एजेंडे में शामिल किया जाएगा।
- फतेह सिंह मीणा, आयुक्त, नगर परिषद, अलवर।

घोटाले खोलेंगे

अलवर नगर परिषद में पिछले कार्यकाल के दौरान जो भी घोटाले और भ्रष्टाचार हुए हैं उन्हें उजागर किया जाएगा। साथ ही शहर के विकास के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे।
- बीना गुप्ता, सभापति, नगर परिषद, अलवर।

बोर्ड का निर्णय मान्य होगा

नालों की सफाई मामले में ठेकेदार पर लगाई गई पेनल्टी मामले में बोर्ड की बैठक में निर्णय लम्बित है। इस मामले में बोर्ड जो भी निर्णय करेगा वो मान्य होगा।
- घनश्याम गुर्जर, उप सभापति, नगर परिषद, अलवर।

खूब भ्रष्टाचार हुआ

अलवर नगर परिषद में पिछले बोर्ड में कई भ्रष्टाचार के मामले हुए हैं। इनमें नालों की सफाई का मामला भी शामिल हैं। नए बोर्ड के समक्ष इन मामलों को रखकर उचित कार्रवाई कराने के प्रयास किए जाएंगे। ताकि जनता को उसका हक मिल सके।
- विक्रम यादव, पार्षद, कांग्रेस।

नहीं हुई बोर्ड की बैठक

इस मामले में बोर्ड की बैठक में निर्णय होना था, लेकिन पिछले बोर्ड ने इसके बाद एक भी बैठक ही नहीं की। जिसके कारण मामला लम्बित है।

Sujeet Kumar Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned