नगर परिषद की सफाई व्यवस्था पटरी से उतरी

अलवर. कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच शहर की सफाई व्यवस्था पटरी से उतरी नजर आ रही है।

By: Prem Pathak

Updated: 02 Jun 2020, 11:48 PM IST

अलवर. कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच शहर की सफाई व्यवस्था पटरी से उतरी नजर आ रही है। सफाई ठेकेदार और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण नगर परिषद अलवर की ओर से शहर में सफाई व्यवस्था के लिए 1100 से ज्यादा स्थाई और अस्थाई सफाईकर्मी लगा रखे हैं। शहर में साफ-सफाई को लेकर ठेकेदारों और कर्मचारियों की पूर्व से ही लगातार शिकायतें रही हैं। मार्च माह में ठेकेदारों का अनुबंध समाप्त हो गया था, लेकिन लॉक डाउन के कारण नगर परिषद ने पुराने ठेकेदारों को ही फिर से शहर की सफाई का जिम्मा सौंप दिया। शहर की सफाई व्यवस्था में अब पहले से भी ज्यादा लापरवाही बरती जा रही है। शहर के पुराने गली-मोहल्लों में नियमित रूप से साफ-सफाई नहीं की जा रही है। हालात यह है कि वहां सडक़ के बीच में ही कई जगह कचरे के ढेर लगे रहते हैं। मोहललों की नालियां भी कीचड़ और गंदगी से अटी पड़ी हैं। नालियों के रुकने के कारण कीचडय़ुक्त गंदा पानी सडक़ों पर ही बहता रहता है। लोगों को मजबूरी में इस गंदे पानी से होकर गुजरना पड़ता है। इस सम्बन्ध में स्थानीय नागरिक नगर परिषद अधिकारी और ठेकेदारों को शिकायत भी करते हैं, लेकिन फिर भी उनके इलाकों में साफ-सफाई पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
यहां सफाई व्यवस्था बदतर

शहर के वार्ड नम्बर-10 के पहाडग़ंज मोहल्ला, धोबीघट्टा, हजूरी गेट, दिल्ली दरवाजा क्षेत्र, अखैपुरा लालखान, जोहड़ा मोहल्ला, नयाबास, तिलक मार्केट के समीप, स्कीम-10, तीजकी, स्वर्ग रोड आदि ऐसे इलाके हैं जहां कई जगह कचरे के ढेर लगे नजर आते हैं।
सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करेंगे

शहर में कई जगह साफ-सफाई नहीं होने की शिकायतें मिल रही हैं। इस सम्बन्ध में ठेकेदारों और सफाई कर्मियों को सख्त हिदायत दी गई। जल्द ही शहर की सफाई व्यवस्था को दुरुस्त किया जाएगा।
- बीना गुप्ता, सभापति, नगर परिषद, अलवर।

Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned