फर्जीवाड़े का बड़ा खुलासा: 1500 रूपए में सरकारी कॉलेज की मार्कशीट, ड्राइविंग लाइसेंस कुछ भी बनवा लो, पकड़े गए दलाल

पुलिस ने फर्जी मार्कशीट, लाइसेंस, आरसी आदि बनाने वाली गैंग का पर्दाफाश करते हुए दलालों को गिरफ्तार किया है।

By: Lubhavan

Published: 12 Jan 2021, 02:27 PM IST

अलवर. 1500 रूपए दो और 15 मिनट में सरकारी कॉलेज की मार्कशीट, आरसी, ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लो। अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर दुकानों पर यह खेल लम्बे समय से चल रहा था। अलवर के बाहर चल रहे फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट बनाने के खेल का सोमवार शाम को पुलिस ने भंडाफोड़ कर दिया। आईपीएस ज्येष्ठा मैत्रेयी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए गिरोह के करीब आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया है। उनके कब्जे से फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट तथा कम्प्यूटर आदि जब्त किए गए हैं। पुलिस मामले का अभी खुलासा करने से बच रही है। मंगलवार को पुलिस इस मामले में खुलासा कर सकती है।

सदर थानाधिकारी प्रशिक्षु आईपीएस ज्येष्ठा मैत्रेयी को अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट आदि बनाने के बारे में सूचना मिली। इसके बाद मामले में पूरी जानकारी जुटाने के बाद सोमवार शाम को आईपीएस मैत्रेयी ने पुलिस टीम के साथ आरटीओ कार्यालय के बाहर स्थित कई दुकानों पर दबिश दी। वहां से करीब आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया तथा मौके से फर्जी दस्तावेज और कम्प्यूटर आदि जब्त कर थाने लाया गया। बताया जा रहा है कि आरटीओ कार्यालय के बाहर कई दुकानों पर से कई फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट आदि जब्त किए गए हैं। इसके अलावा कम्प्यूटर भी जब्त किए गए हैं, जिनमें से डेटा खंगाला जा रहा है और हिरासत में लिए गए लोगों से इस सम्बन्ध में गहनता से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस ने बनवाई अंकतालिका

पुलिस ने इस मामले की कई दिन पड़ताल की। बोगस ग्राहक बनकर लाइसेंस और मार्कशीट बनवाई गई। दलाल ने पुलिस के बोगस ग्राहक से 1500 रूपए लेकर काम कर दिया। इन दलालों के पास कॉलेज प्रिंसिपल से लेकर बड़े अधिकारीयों तक की मुहर है। यह फर्जीवाड़ा लम्बे समय से चल रहा था।

आरटीओ के कर्मचारी भी आ सकते हैं शिकंजे में

परिवहन कार्यालय में दलाल प्रथा बरसों से पुरानी चली आ रही है। अब कार्यालय के बाहर फर्जी लाइसेंस, आरसी और मार्कशीट आदि बनाने का गौरखधंधा पुलिस ने पकड़ा है। इस मामले में अलवर आरटीओ कार्यालय के अधिकारी और कर्मचारियों की मिलीभगत भी सामने आ सकती है और उन पर भी पुलिस का शिकंजा कस सकता है। आरटीओ के अधिकारी और कर्मचारियों की संलिप्तता के मामले में भी पुलिस गहनता से पड़ताल कर रही है।

जांच कर रहे हैं

आरटीओ कार्यालय के बाहर फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों की आरसी बनाने की सूचना पर कार्रवाई करते हुए पांच-छह लोगों को हिरासत में लिया है। उनके कब्जे से कुछ दस्तावेज और कम्प्यूटर आदि भी जब्त किए गए हैं। पूरे मामले की जांच की जा रही है। जल्द जांच पूरी कर खुलासा कर दिया जाएगा।

- तेजस्विनी गौतम, जिला पुलिस अधीक्षक, अलवर।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned