कोरोना के संकट में लोगों की मददगार बनी खाकी, IG से लेकर सिपाही तक लोगों के घरों में पहुंचा रहे भोजन

थानों में पुलिसकर्मी अपनी-अपनी जेब से रुपए जुटाकर कर रहे लोगों की मदद

By: Lubhavan

Published: 29 Mar 2020, 04:37 PM IST

अलवर. कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हजारों गरीब और मजदूर परिवारों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। ऐसे जरुरतमंद परिवारों के लिए खाकी मददगार साबित हो रही है। पुलिसकर्मी रोजाना कच्ची बस्ती और झुग्गी-झोपडिय़ों में जाकर हजारों जरुरतमंद परिवारों को राशन और भोजन के पैकेट उपलब्ध करा रहे हैं।

जिले में लॉक डाउन के चलते हजारों परिवारों का रोजगार छिन गया है। दिहाड़ी मजदूरी करने वाले लोग अपने घरों में बैठ गए हैं और उनके परिवारों पर भोजन का संकट मंडराने लगा है। ऐसे परिवारों की मदद के लिए जिला पुलिस भोजन और राशन की व्यवस्था कर रही है। सभी थानाधिकारी अपने साथी पुलिसकर्मियों के साथ क्षेत्र की कच्ची बस्ती व झुग्गी-झोपडिय़ों में जा रहे हैं और जरुरतमंद गरीब परिवारों को राशन किट दे रहे हैं। वहीं, कई थानों के पुलिसकर्मी भोजन तैयार करा इन बस्तियों में जाकर लोगों को बैठाकर खिला रहे हैं। हमेशा रौब में दिखने वाली खाकी का यह सामाजिक चेहरा देखकर हर कोई खाकी की नुमाइंदों को सैल्यूट कर रहा है।

पुलिसकर्मी जेब से जुटा रहे राशि

कच्ची बस्ती व झुग्गी-झोपडिय़ों में भोजन और राशन उपलब्ध कराने के लिए पुलिस को अलग से कोई सरकारी फंड नहीं मिला है। सभी थानों में पुलिसकर्मी अपनी-अपनी जेब से राशि इक_ी कर गेहूं, चावल, दाल, आटा, सब्जी व मसाले आदि की राशन किट तैयार कर बांट रहे हैं या फिर भोजन के पैकेट बनाकर लोगों को दे रहे हैं।

100 से 150 लोगों की मदद

जिले का हर पुलिस थाना अपने स्तर पर रोजाना 100 से 150 लोगों की मदद कर रहा है। वहीं, अलवर सेंट्रल जेल प्रशासन की ओर से भी रोजाना सुबह और शाम को 100-100 जरुरतमंद लोगों के भोजन की व्यवस्था की जा रही है।

Corona virus
Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned