पत्रिका प्रतिभा सम्मान : अलवर पुलिस अधीक्षक ने विद्यार्थियों को दी यह सीख, जानिए आप भी

अलवर पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश ने पत्रिका के प्रतिभाओं को सम्मान कार्यक्रम में प्रतिभावान विद्यार्थियों को सलाह दी।

By: Prem Pathak

Published: 25 Jun 2018, 01:24 PM IST

अलवर. पत्रिका इन एजुकेशन (पाई) और एचीवर्स एकेडमी की ओर से रविवार को अलवर शहर के प्रताप ऑडिटोरियम में प्रतिभाओं को सलाम कार्यक्रम में 85 प्रतिशत से अधिक प्राप्त करने वाले सैकड़ों विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया। भविष्य की बेहतर दिशा के लिए कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश, मत्स्य विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. भारत सिंह व जिला सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव व एसीजेएम पवन जीनवाल ने विद्यार्थियों को बेहद रोचक अंदाज में आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया।

कार्यक्रम में 10वीं व 12वीं बोर्ड के उन विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया जिनके 85 प्रतिशत से अधिक अंक आए हैं। एचीवर्स एकेडमी के विद्यार्थियों की संख्या सबसे अधिक रही है। कार्यक्रम में स्वागत भाषण एकेडमी के डायरेक्टर अमित भार्गव ने दिया। कार्यक्रम का संचालन मनीष जैन ने किया। समारोह में एकेडमी व स्कूल का पूरा स्टाफ मौजूद रहा। सम्मान पाने के अलावा विद्यार्थियों को इस अवसर पर शिक्षा, पुलिस व न्यायिक अधिकारियों से बेहतर कॅरियर को पाने के लिए मोटिवेशन मिला। पूरे जिले भर के हजारों विद्यार्थी यहां आए। मां सरस्वती के सामने दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम शुरू हुआ। संगीत की धुन और जुगनू की आवाज में मां की आराधना हुई।

माता पिता शक्ति पैदा करने का काम करें

पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश ने छोटी सी कहनी के जरिए बताया कि बच्चों को आगे बढ़ाने में माता-पिता शक्ति पैदा करने का काम करें। लेकिन इतनी भी मदद नहीं करनी कि वे अपने पैरों की शक्ति खो दें। उन्हें खुद निर्णय लेने की शक्ति दें। एक तरह से खुद लड़ेंगे तभी जान आएगी। फिर बेहतर और इच्छा के अनुसार सफलता मिलना तय है।

उन्होंने बच्चों को यह सीख भी दी कि भविष्य में हर जरूरतमंद की मदद करें। जाति, धर्म, भाषा का भेदभाव कतई नहीं रखे। मानव मात्र से प्रेम करना सीखें। यह भी कहा कि किसी भी स्तर पर भ्रम तो पहले उसे स्पष्ट करें। फिर उचित निर्णय लेकर आगे बढ़ेंगे तभी इस चुनौतिपूर्ण प्रतिस्पद्र्धा में आगे आ सकेंगे।

समस्या से ऊपर जाओ, बाज बनो

लोक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव पवन जीनवाल ने सोशल मीडिया पर प्रहार करते हुए विद्यार्थियों को जागरूक किया कि बिना मतलब के सोशल मीडिया पर समय बर्बाद नहीं करें। विद्यार्थी जीवन में ही सही व गलत रास्ते को पहचानने की जरूरत है। गलत रास्ते शराब व धूम्रपान की तरह सोशल मीडिया है। जिस पर गलत व बनावटी संदेश व ऑडियो वीडियो को देखने में समय खर्च कर अपने लक्ष्य से भटक सकते हैं। इससे बचना होगा। बच्चों का यह तय करना है कि किसमें फायदा व नुकसान है। इतना हमें सोचना होगा कि समस्या का पूरा समाधान कहां हैं। जिस तरह बारिश आते ही पक्षी मकान व पेडों में छिपते हैं लेकिन बाज बादलों से ऊपर ही चला जाता है। बाज बनकर समस्या से ऊपर जाने की सोचें।

30 साल मेहनत कर जो चाहे बनें

मत्स्य विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. भरत सिंह ने कहा कि 10वीं व 12वीं कक्षा अच्छे अंकों से उत्तीर्ण करने से आधार तो मजबूत बना लिया लेकिन इसे बरकरार रखने के लिए मेहनत बराबर करनी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि 30 साल की उम्र तक मेहनत करके जो चाहे बना सकता है। कोई भी पद या नौकरी बड़ी नहीं है। इंसान स्वयं का निर्माता है। सोचना सरल है लेकिन उस मार्ग पर चलना कठिन है। जो त्याग व तपस्या से ही हासिल हो सकता है।

प्रमाण पत्र कार्यालय से प्राप्त करें

एकेडमी प्रशासन ने बताया कि प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम के दौरान जिन विद्यार्थियों ने प्रमाण पत्र प्राप्त नहीं किया। वे एचीवर्स एकेडमी के अम्बेडकर सर्किल स्थित गणपति काम्प्लेक्स के कार्यालय से ऑफिस समय में प्राप्त कर सकते हैं।

Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned