वाहनों का हुआ अधिग्रहण, कैसे जाएगी बारात

जिन लोगों के घरों में शादी है। उनकी परेशानी बढ़ गई है..

By: Himanshu Sharma

Published: 20 Jan 2018, 09:57 PM IST

अलवर.

चुनाव के चलते परिवहन विभाग ने अब तक 550 वाहनों का अधिग्रहण कर लिया है व उनको चुनाव कार्य में लगा दिया गया है। एेसे में जिन लोगों के घरों में शादी है। उनकी परेशानी बढ़ गई है। उनको बारात लेकर जाने के लिए वाहन नहीं मिल रहे हैं। तो दूसरी तरफ शहर के ग्रामीण रूटों पर भी हालात खराब हैं। आगामी दिनों में यह परेशानी बढ़ सकती है। क्योंकि 1000 वाहनों का अधिग्रहण ओर किया जाएगा।

चुनाव कार्य में पुलिस पार्टी को लाने व लेकर जाने, पोलिंग पार्टी, सेक्टर मजिस्ट्रेट सहित अन्य कार्यों के लिए वाहनों की आवश्यकता होती है। परिवहन विभाग की तरफ से 350 वाहन सेक्टर मजिस्ट्रेट को दिए गए हैं। जबकि करीब 250 वाहनों का अधिग्रहण करके उनको पुलिस के लिए दिया गया है। इसमें 57 जीप, 63 बस, 50 ट्रक, 8 मिनी बस, 25 पिकअप, ६१ बुलेरा सहित अन्य वाहन शामिल हैं। आगामी दिनों में करीब एक हजार वाहनों का ओर अधिग्रहण होना है। एेसे में इन दिनों जिन लोगों के घर में शादी है उनको बारात लेकर जाने व अन्य कार्यों के लिए बस व जीप नहीं मिल सकेगी। ग्रामीण क्षेत्र में ज्यादा वाहन लेकर जाने का रिवाज है। बसंत पंचमी का मुख्य सावा है। एेसे में लोगों की परेशानी बढ़ सकती है। इसके अलावा के ग्रामीण रूटों पर लगे वाहनों की संख्या भी कम हो गई है। एेसे में लोगों को आने जाने में खासी परेशानी आ रही है।


29 को होगी वोटिंग
अलवर में लोकसभा के उप चुनाव के लिए वोटिंग 29 जनवरी को होगी। जबकि वोटों की गिनती 1फरवरी को होगी। पुलिस के लिए जिन वाहनों की अधिग्रहण हुआ है। वो वाहन २९ जनवरी के बाद तक ड्यूटी पर रहेंगे। वाहनों की व्यवस्था करने के लिए परिवहन विभाग के अधिकारियों को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है।

 

चल रही है अधिग्रहण प्रक्रिया

अलवर आरटीओ भंवर लाल ने बताया कि चुनाव के लिए वाहनों के अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। जरूरत के हिसाब से वाहनों को लगाया जा रहा है। स्कूल की बसों का अधिग्रहण नहीं किया गया है। पुलिस के लिए जो वाहन दिए गए हैं। उनका ज्यादा दिनों तक अधिग्रहण रहेगा। वैसे अन्य वाहनों को जल्दी फ्री कर दिया जाएगा।

 

Himanshu Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned