अलवर से एक कविता रोज: इंसानियत जिंदा है या मर गई, लेखिका- अनुराधा तिवारी अलवर

इंसानियत जिंदा है या मर गई
एक बेज़ुबा की मौत से इंसानियत हमें अलविदा कर गई|
8 पुलिसकर्मियों की हत्या से इंसान की बेरहमी उभर गई||
बेजुबान जानवर को फांसी पर लटकाने से दरिंदगी निखर गई|

By: Lubhavan

Published: 29 Sep 2020, 07:28 PM IST

इंसानियत जिंदा है या मर गई

एक बेज़ुबा की मौत से इंसानियत हमें अलविदा कर गई|
8 पुलिसकर्मियों की हत्या से इंसान की बेरहमी उभर गई||
बेजुबान जानवर को फांसी पर लटकाने से दरिंदगी निखर गई|

इंसानियत का पता ढूंढते ढूंढते मेरी पूरी उम्र गई|
तब जाकर एहसास हुआ कि इंसानियत तो कब की गुजर गई||
जब डॉक्टर पर थूककर उनके एहसानों का हिसाब हुआ|
तब जाकर बेशर्मी का चेहरा बेनकाब हुआ||

अब यूं ही चलता रहेगा यह दरिंदगी का सिलसिला|
इस कदर मुझे भविष्य के अंधकार का जवाब मिला||

ऐ जिंदगी! अब मुझे तुमसे नहीं है कोई शिकवा और ना ही कोई गिला|
इंसान में इंसानियत को नहीं जाना या फिर इंसानियत ने
इंसान को पहचानने में देर कर दी|
बेगुनाही की सजा पाते पाते इंसानियत ने मेरी आंखें ना उम्मीद से भर दी||

अनुराधा तिवारी
43 नेहरू नगर NEB, अलवर

आप भी भेजें अपनी रचनाएं

अगर आपको भी लिखने का शौक है तो पत्रिका बनेगा आपके हुनर का मंच। अपनी कविता, रचना अथवा कहानी को मेल आइडी [email protected] अथवा मोबाइल नंबर 9057531600 पर भेज दें। इसके आलावा स्कूली बच्चे अपनी चित्रकारी भी भेज सकते हैं। इन सब के साथ अपना नाम, पता, क्लास अथवा पेशा अवश्य लिखें।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned