आवक ठीक-ठाक रहने से सब्जी के थोक भावों में ज्यादा अंतर नहीं

आवक ठीक-ठाक रहने से सब्जी के थोक भावों में ज्यादा अंतर नहीं

Prem Pathak | Publish: May, 18 2018 11:01:17 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

किसानों व उपभोक्ताओं को नहीं मिल रहा खास लाभ

मौसम की पडी सब्जियों पर मार

अलवर। ज्येष्ठ माह में गर्मी की तेजी से आम आदमी का घर से निकलना मुश्किल भरा रहता है। ऐसे मौसम में सब्जी के भावों में तेजी का रूख दिखाई देना आम बात है। शहर की फल सब्जी मंड़ी में इन दिनों मौसमी हरी सब्जी का बोलबाला है। ककडी, खीरा व खरबूजा और तरबूज गर्मी के सीजन में प्रमुख रूप से रसोई में मिलते है। इस मौसम के परिर्वतन का असर आम जनजीवन पर तो पड़ता ही है, साथ ही खेती-बाड़ी पर दिखाई देता है। इसी कारण सब्जी की पैदावार में हरी सबजी व अन्य सब्जियों की आवक में असर दिखाई दे रहा है। सबिजयों की आवक के आधार पर मंड़ी में फल सब्जी के भाव बोले गए।

सदाबहार आलू व प्याज के भावों में स्थिरता

हर मौसम में रसोई की शान बढाने वाले आलू का भाव गर्मी के मौसम में तेजी का रूख बनाए रहता है। आलू का थोक भाव 70-75 रूपए पांच किलो रहा। जबकि प्याज का थोक भाव भी क्वालिटी के अनुसार 65-70 रूपए प्रति पांच किलो बेचा गया। आलू व प्याज के भाव गत दो सप्ताह से स्थिरता बनाए हुए है।

हरी सब्जी के ये रहे भाव

गर्मी के मौसम की सबिजयों में बैगन, टिंडा, भिंडी, तोरई, अरबी, टमाटर सहित गोभी, मूली की भी इन दिनों मंड़ी में आवक अच्छी रहने से भाव 20 से 40 रूपए किलो के अंदर रहे। सब्जी की आवक अच्छी रहने से थोक भाव काफी कम रहे। बीते सप्ताह की तुलना में भावों में ज्यादा अंतर देखने को नहीं मिला। हालाकि गोभी,तोरई और अरबी का भाव 40 से 50 रूपए के बीच रहे। गर्मी में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाले नींबू के भाव 80 रूपए किलो रहे। जबकि मूली, बैगन, टिंडा, खीरा के भाव 20 से 30 रूपए किलो के मध्य रहे। हरे धनिया का भाव ओर दिनों की अपेक्षा काफी ज्यादा रहा, जबकि हरी मिर्च के भावों में तेजी का रूख बरकरार रहा।

केरी पर मौसम की पडी मार

अलवर फल सब्जी मंड़ी में इन दिनों केरी की भरमार है। गत दिनों आए आंधी तूफान के कारण केरी की फसल को काफी नुकसान हुआ है। यही कारण है कि इस बार मंड़ी में केरी के दाम कम रहे। अलवर जिले में राजगढ व अन्य स्थानों से केरी की आवक रहती है। लेकिन गत दिनों मौसम के मिजाज के कारण केरी की फसल में ठेकेदारों को लाखों का नुकसान हुआ है। मंड़ी में केरी का थोक भाव 15-22 रूपए रहा। जबकि खुदरा भाव 35-40 रूपए किलो रहे।

स्थानीय आढतियों ने बताया कि गर्मी के बढऩे के साथ ही सब्जी के दामों में इजाफा देखने को मिलेगा। फिलहाल बीते दो सप्ताह से सब्जी के भावों में ज्यादा उतार-चढ़ाव नहीं है।
मौसम में आ रहे बदलाव से बाडी लगाना नुकसान दायक साबित हो रही है। बारिश तेज धूप सूं सब्जी जल्दी तैयार हो रही है, आगे सप्ताह में सब्जी के भाव अच्छे मिलने के आसार है।
रामवीर, किसान, अलवर

सब्जी में आवक अच्छी हैं, बिक्री भी कम है। इसलिए मंदी के चलते मुनाफा कम हो रहा है। तेजी में मुनाफा अधिक रहता है।
प्रभु शंकर, खुदरा फुटकर व्यापारी, फल सब्जी मंड़ी, अलवर

थोक भावों के कारण आम गृहणी को कोई खास लाभ नहीं होता है। कभी कभार बडी मंड़ी में आने पर ही थोक भाव का एहसास होता है। हमें गली में आने वाला सब्जी वाला करीब एक सप्ताह से जो भाव चल रहा है उसी भाव में सब्जी दे रहा है।
नीतू शर्मा,गृहणी कोर्ट रोड़, अलवर

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned