विधानसभा में अलवर: विधायक संजय शर्मा ने एमआइए की समस्याएं उठाई

अलवर. शहर विधायक संजय शर्मा ने शनिवार को विधानसभा में उद्योग, श्रम व रोजगार की मांगों पर बोलते हुए अलवर के एमआइए की विभिन्न समस्याओं का जिक्र कर उद्योगों में स्थानीय युवाओं को रोजगार मुहैया कराने, खनिज आधारित उद्योगों के संचालन के लिए सरिस्का क्षेत्र में इको सेंसटिव जोन निर्धारित करने, एमआइए को एक्सप्रेस हाइवे से जोडऩे, फूड जोन पार्क के विकास के लिए योजना बनाने, एमआइए में आधारभूत ढांचा विकसित करने, बंद हो चुके उद्योगों में कार्यरत रहे श्रमिकों का अटका भुगतान दिलाने की जरूरत बताई।

By: Prem Pathak

Published: 07 Mar 2020, 10:52 PM IST

अलवर. शहर विधायक संजय शर्मा ने शनिवार को विधानसभा में उद्योग, श्रम व रोजगार की मांगों पर बोलते हुए अलवर के एमआइए की विभिन्न समस्याओं का जिक्र कर उद्योगों में स्थानीय युवाओं को रोजगार मुहैया कराने, खनिज आधारित उद्योगों के संचालन के लिए सरिस्का क्षेत्र में इको सेंसटिव जोन निर्धारित करने, एमआइए को एक्सप्रेस हाइवे से जोडऩे, फूड जोन पार्क के विकास के लिए योजना बनाने, एमआइए में आधारभूत ढांचा विकसित करने, बंद हो चुके उद्योगों में कार्यरत रहे श्रमिकों का अटका भुगतान दिलाने की जरूरत बताई।

विधानसभा में शहर विधायक शर्मा ने कहा अलवर जिले में बड़े-बड़े उद्योग लगे, लेकिन उनमें स्थानीय युवाओं को रोजगार नहीं मिल पाया, उद्योगों से प्रदूषण की समस्या बढ़ी, उद्योगों से निकलने वाले दूषित पानी से किसानों की जमीन खराब होने से किसान खुद को ठगा सा महसूस कर रहा है। भिवाड़ी, चौपानकी, खुश्खेड़ा, नीमराणा, बहरोड़ में विकास केवल औद्योगिक क्षेत्रों तक सिमटा रहा। पडोस के गांवों को इस औद्योगिक विकास का लाभ नहीं मिल सका। उन्होंने भिवाड़ी स्थित एक उद्योग की ओर से आसपास के चार-पांच गांवों में सडक़ों का निर्माण, अस्पताल व स्कूल खोलने व स्थानीय रोजगार दिया। यह उद्योग वर्तमान में खूब चल रहा है। उन्होंने उद्योग मंत्री से अन्य उद्योगों को भी ऐसा ही करने को प्रेरित करने का आग्रह किया। साथ ही औद्योगिक क्षेत्र में स्पेशल टास्क फोर्स का गठन करने की मांग की। विधायक ने मत्स्य औद्योगिक क्षेत्र (एमआइए) में उजडऩे के कारण गिनाते हुए श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली से बंद हो चुके उद्योगों के प्रबंधन से वहां कार्य करने वाले कर्मचारियों का वेतन व अन्य भुगतान दिलाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि एमआइए में खनिज आधारित उद्योगों के संचालन के लिए सरिस्का बाघ परियोजना के आसपास इको सेंसेटिव जोन निर्धारित कराने का आग्रह किया। विधायक शर्मा ने श्रम मंत्री से जिले में तहसील स्तर पर रोजगार मेलों के आयोजन की जरूरत बताई।

Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned