अलवर के प्रतियोगी परिक्षाओं के प्रति बढ़ रहा युवाओं का रुझान, कोचिंग संचालकों की हुई चांदी

अलवर के प्रतियोगी परिक्षाओं के प्रति बढ़ रहा युवाओं का रुझान, कोचिंग संचालकों की हुई चांदी

Hiren Joshi | Publish: Sep, 04 2018 05:30:01 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/alwar-news/

अलवर के सरकारी महाविद्यालयों में नया सत्र शुरु होने के बाद भी सूनापन है। बेहद कम विद्यार्थी ही कक्षाएं लेने आ रहे हैं। इसका प्रमुख कारण है विद्यार्थियों का प्रतियोगी परिक्षाओं के प्रति बढ़ता रुझान। अलवर में पिछले 1 साल में प्रतियोगी परिक्षाओं का क्रेज बढ़ा है। अलवर में महाविद्यालय में पढऩे वाले विद्यार्थियों से अधिक युवा कोचिंग में पढ़ रहे हैं। अलवर के युवा बैंक, एसएससी, रेलवे आदि की कोचिंग कर रहे हैं। स्नातक कोर्स करने के बाद नौकरी के अच्छे अवसर नहीं मिल पा रहे हैं। निजी कंपनियां किसी युवा को 15 हजार से अधिक तनख्वाह देने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे में अब अधिकतर युवा सरकारी नौकरी पाने के इच्छुक है।
प्रतियोगी परिक्षाओं की कर रहे तैयारी
शहर में 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद विद्यार्थी अपनी स्नातक कक्षाओं से ज्यादा प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारियां कर रहे है।
युवाओं का कहना है कि अलवर में प्राइवेट नौकरी में ज्यादा अवसर नहीं है। इसलिए वे महाविद्यालय में कक्षाएं लेने के बजाए प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं।

सरकारी नौकरी में इच्छुक विद्यार्थी

शहर के विद्यार्थी इस समय प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी सरकारी नौकरी पाने के लिए कर रहे है। विद्यार्थियों का कहना है कि इस समय निजी क्षेत्र में स्थिर नौकरी न मिल पाने के कारण वे सरकारी नौकरी की तैयारियां कर रहे है। वहीं सरकारी महाविद्यालयों के अधिकांश विद्यार्थियों का कहना है कि आजकल स्नातक कोर्स करने के बाद भी नौकरी की ज्यादा संभावनाएं नहीं है, इसलिए वे महाविद्यालयों के बजाए प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारियों के लिए निजी संस्थानों में प्रवेश ले रहे है।

इस साल सरकारी नौकरी के अवसर अधिक

सरकार ने चुनावी साल में सरकारी नौकरियों की बंपर भर्ती निकाली है। रेलवे ग्रुप डी, एलडीसी, पुलिसकर्मी भर्ती में अधिक अवसर देखते हुए इस वर्ष विद्यार्थियों ने इनकी तैयारी की। इन परिक्षाओं के कारण निजी कोचिंग संचालकों की भी चांदी हो गई, कोचिंग में देर रात तक प्रतियोगी परिक्षाओं की कक्षाएं चल रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned