सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां, अरावली के पहाड़ को खुलेआम छलनी कर बना दिया मैदान, करने जा रहे थे विवाह सम्मेलन

सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां, अरावली के पहाड़ को खुलेआम छलनी कर बना दिया मैदान, करने जा रहे थे विवाह सम्मेलन
सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां, अरावली के पहाड़ को खुलेआम छलनी कर बना दिया मैदान, करने जा रहे थे विवाह सम्मेलन

Prem Pathak | Updated: 09 Oct 2019, 03:03:50 PM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

Aravali Illegal Mining : अरावली पर्वतमाला की पहाड़ी को पूरा का पूरा काटकर वहां विवाह सम्मेलन की तैयारी की जा रही थी।

अलवर. Aravali Illegal Mining : नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल (एनजीटी) ( NGT ) और सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) के सख्त आदेशों का असली उल्लंघन देखना है तो अब ( Illegal Mining In Alwar ) भिवाड़ी छोड़ थानागाजी के अंगारी गांव आइए। ( Illegal Mining ) यहां पिछले एक माह में भैरूजी के पहाड़ की सबसे ऊंची चोटी (40 फीट) को काट कर कई बीघा का खेत बना दिया है। पिछले करीब एक माह से दिन-रात जेसीबी से पहाड़ को तोडऩे का कार्य जारी है। जिसे देख कर लगता है मानो यह सब सरकार व प्रशासन की अनुमति से हो रहा हो, लेकिन जब मामले की शिकायत प्रशासन से की तो खुद को इससे अनजान होना बताया। सूत्रों के अनुसार इस चोटी को समतल करने के बाद कुछ उच्च रसूखात वाले लोगों की यहां कब्जा करने की मंशा है।

सामूहिक विवाह सम्मेलन की तैयार

अफसोस की बात यह है कि जब उपखण्ड अधिकारी को इसकी जानकारी दी तो इतना ही बोले कि उनको पता नहीं है। इतनी गंभीरता भी नहीं दिखाई कि पहाड़ को कहां तोड़ा जा रहा है। तुरंत रुकवाते हैं। इससे साफ जाहिर होता है कि प्रशासन की निगाह में रखकर सुप्रीम कोर्ट व एनजीटी के आदेशों की जानबूझकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। यहां लोगों ने बताया कि यहां 160 जोड़ों का सर्वजातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन होना है।इस कारण इसे समतल किया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि सामूहिक विवाह की तो केवल आड़ ली जा रही है।

रिकॉर्ड में सरकारी पहाड़

अंगारी गांव व आसपास के अधिकतर लोगों को पता है कि यह गैर मुमकिन पहाड़ है। फिर भी इसे तोडऩे का निर्णय हो गया। एक महीने से जेसीबी पहाड़ को तोडऩे में लगी है। मौके पर खड़े लोगों ने बताया कि करीब 40 फीट ऊंचाई में पहाड़ को काटकर समतल किया गया है। इतना जरूर है कि यहां से पहाड़ के मलबे को समतल करने में काम लिया गया है।

पहाड़ी काटने के बारे में मुझे जानकारी नहीं

अंगारी में पहाड़ी काटने के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। उक्त जमीन का खसरा नम्बर देखकर ही भूमि की किस्म का पता लग पाएगा। इसके लिए तहसीलदार से बात करता हूं। यहां सर्वजातीय सम्मेलन के लिए उनके यहां से किसी ने कोई अनुमति नहीं ली है।
अमित कुमार वर्मा, उपखंड अधिकारी, थानागाजी (अलवर)

सम्मेलन के लिए गांव वालों ने समतल किया

अंगारी गांव में पहाड़ी को नहीं काटा गया है। गांव वाले सर्वजातीय सम्मेलन के लिए पहाड़ी पर सफाई कर रहे हैं। यदि इस अच्छे काम में कुछ गलत है तो दूसरी जगह या गांव में सम्मेलन करा देंगे।
कांतीप्रसाद मीणा, विधायक, थानागाजी विधानसभा क्षेत्र

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned