बिजली चोरी में फंसाने की धमकी देकर ले रहा था रिश्वत, इस तरह चढ़ा एसीबी के ​हत्थे

ttps://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: abdul bari

Published: 07 Jan 2019, 08:51 PM IST

अलवर
बिजली चोरी में फंसाने की धमकी देकर रिश्वत मांगने के मामले में काली मोरी फाटक स्थिति बिजली निगम के कार्यालय में कार्यरत तकनीकी सहायक हितेश कुमार जाटव को तीन हजार रुपए की रिश्वते लेते हुए गिरफ्तार किया है।

एसीबी के डीएसपी सालेह मोहम्मद ने बताया कि दुर्गा कॉलोनी सूर्य नगर निवासी परिवादी गिरीराज प्रसाद ने एसीबी में शिकायत दर्ज कराई कि गत दो जनवरी को हितेश नाम का मीटर रीडर बिजली का मीटर जांच करने उनके घर आया था। वह उसके परिवारजनों को खुद के मोबाइल नम्बर देने के साथ यह बोलकर आया कि जब दुर्गाप्रसाद आएं तो मुझसे बात कर लेंगे। तीन जनवरी को परिवादी ने तकनीकी सहायक हितेश से फोन पर बात की तो उसने अम्बेडकर नगर बुलाया। वहां परिवादी को बिजली चोरी करने के मामले में फंसाने की धमकी दी। वीसीआर से बचने के लिए तीन हजार रुपए की रिश्वत की मांग की।

परिवादी ने मामले की शिकायत एसीडी को दी। इस तरह रिश्वत मांगने की शिकायत का चार जनवरी को सत्यापन किया गया। इसके बाद तकनीकी सहायक ने सात जनवरी को परिवादी को रिश्वत के तीन हजार रुपए लेकर सूर्य नगर डी ब्लॉक बुलवाया। वहां जैसे ही परिवादी से रिश्वत की राशि लेकर जेब में रखी। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने उसे रिश्वत की राशि सहित गिरफ्तार कर लिया। तकनीकी सहायक कर्मचारी हितेश कुमार स्कीम दस निवासी है और काली मोरी फाटक स्थित बिजली निगम के कार्यालय में कार्यरत है।

उधर, परिवादी का कहना है कि उसने किसी भी तरह बिजली चोरी नहीं की। इसके बावजूद उसे बिजली चोरी में फंसाने की धमकी देकर रिश्वत की मांगी की गई। जिसकी शिकायत करने पर यह कार्रवाई हुई है।

abdul bari
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned