बहरोड़ विधायक बलजीत यादव ने विधानसभा में उठाया युवाओं का मुद्दा, बोले-घुट-घुटकर जी रहे बेरोजगार युवा, सगाई भी टूट रही

बहरोड़ विधायक बलजीत यादव ने विधानसभा में बेरोजगार युवाओं का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार नहीं मिलने से वे निराश हैं।

अलवर. विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान बहरोड़ के विधायक बलजीत यादव ने बेरोजगारों से जुड़ा प्रदेश स्तर का मुद्दा विधानसभा में उठाया। विधायक ने कहा कि दूसरे प्रदेशों की तुलना में हमारे राजस्थान का युवा ठगा सा महसूस कर रहा है। देश के करीब 20 से अधिक प्रदेशों में राजस्थान के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर खत्म कर दिए हैं।

वहां की सरकारों ने अनेक ऐसे कानून बना दिए जिससे दूसरे प्रदेश के युवा नौकरी में चयन ही नहीं हो पाते हैं। खासकर वहां की स्थानीय बोली-भाषा को जानना अनिवार्य कर दिया। इधर, हमारे राजस्थान प्रदेश में पोपा बाई का राज है। किसी भी प्रदेश का युवा आसानी से नौकरी लग जाता है और हमारे युवा रह जाते हैं। विधायक ने बिहार, गोवा व मणिपुर के उदाहरण देते हुए कहा कि सरकार प्रदेश के युवाओं को आंदोलन पर उतरने को मजबूर नहीं करे। अन्यथा प्रदेश में सबसे बड़ा विरोध सामने आने वाला है। इसके अलावा जाति प्रमाण पत्र नहीं बनने का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पडौसी राज्यों से रिश्ते टूटने लगे हैं।

जिसके पीछे यही कारण है कि सीमावर्ती प्रदेश से होने वाली युवतियों के जाति प्रमाण पत्र नहीं बन रहे हैं। जिससे रिश्ते टूटने की नौबत आ गई है। इस तरह रोजगार पर बड़ी चोट हो रही है। जिसे युवा बर्दाश्त नहीं कर सकेगा। इसके लिए सरकार को तुरंत कानून बनाने की जरूरत है।
यादव ने कहा कि औद्योगिक कंपनियों में भी स्थानीय को रोजगार में आरक्षण की व्यवस्था सरकार करे जिससे यहां के युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिल सके।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned