भिवाड़ी सीएचसी में बिना जांच के इलाज, अधिकतर मशीनें खराब

भिवाड़ी सीएचसी में बिना जांच के इलाज, अधिकतर मशीनें खराब

| Publish: Apr, 06 2017 05:25:00 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

भिवाड़ी. औद्योगिक नगरी भिवाड़ी में देश भर के लाखों लोग आकर बसे हैं। फैक्ट्रियों में भी दुर्घटनाएं होती रहती हैं। प्रदूषण की वजह से चर्म रोग भी जल्दी होता है। ऐसी स्थिति में यहां इलाज के बेहतर संसाधन उपलब्ध होने चाहिए। लेकिन सरकारी स्तर पर यहां सुविधाओं का अभी तक टोटा है।

भिवाड़ी. औद्योगिक नगरी भिवाड़ी में देश भर के लाखों लोग आकर बसे हैं। फैक्ट्रियों में भी दुर्घटनाएं होती रहती हैं। प्रदूषण की वजह से चर्म रोग भी जल्दी होता है। ऐसी स्थिति में यहां इलाज के बेहतर संसाधन उपलब्ध होने चाहिए। लेकिन सरकारी स्तर पर यहां सुविधाओं का अभी तक टोटा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में मरीजों को पूरा इलाज नहीं मिल पा रहा है। जांच की मशीनें खराब पड़ी हैं, जिससे मरीजों को बाहर महंगी जांच करानी पड़ रही हैं। 



500 से अधिक की ओपीडी


भिवाड़ी सीएचसी में प्रतिदिन पांच सौ से एक हजार मरीजों की ओपीड़ी रहती है। ओपीडी की संख्या से सीएचसी पर मरीजों के दवाब और चिकित्सा की जिम्मेदारी को समझा जा सकता है। फैक्ट्रियों में बड़ी संख्या में मजदूर काम करते हैं। जिन्हें सरकार की ओर से उपलब्ध सरकारी इलाज की सख्त जरूरत होती है। लेकिन धूल फांक रही मशीन और बंद पड़ी मशीनों से मरीजों के साथ छल हो रहा है। 


एनस्थीसिया मशीन खराब


सीएचसी सूत्रों ने बताया कि एनस्थीसिया मशीन कई साल से खराब पड़ी है। एनस्थीसिया मरीज को ऑपरेशन करने से पहले बेहोश और सुन्न करती है। मशीन खराब होने से एनस्थेटिस्क और सर्जन ठीक से काम नहीं कर पाते। जानकारों की मानें तो अल्ट्रासाउंड मशीन को करीब पांच साल पहले आठ लाख रुपए की लागत से खरीदा गया था, जिसका अभी तक कोई उपयोग नहीं हुआ है। मशीन बंद पड़ी हुई धूल फांक रही है। 



प्रयोगशाला की स्थिति खराब


प्रयोगशाला के अंदर भी मशीनों की स्थिति खराब है। आए दिन मशीन खराब होती रहती हैं। जिससे जांच प्रभावित होती हैं और मरीजों के इलाज में देरी होती है। सीबीसी मशीन भी बार-बार खराब हो जाती है। मशीनों के बंद पड़े होने और खराब होने की स्थिति में सीएचसी में सही इलाज की उम्मीद बेईमानी लगती है। 



सही कराने जयपुर भेजा पत्र


सीएचसी प्रभारी डा. राकेश सोनी का कहना है कि एनस्थीसिया की मशीन को मरम्मत के लिए जयपुर पत्र भेजा है। अल्ट्रासाउंड के लिए रेडियोलॉजिस्ट नहीं है। प्रयोगशाला में मशीन ठीक हैं। 


राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned