भिवाड़ी यूआईटी ने पांच साल बाद की नीलामी लेकिन नहीं आए खरीदार, कैसे हो लक्ष्य हासिल

भिवाड़ी यूआईटी ने पांच साल बाद की नीलामी लेकिन नहीं आए खरीदार, कैसे हो लक्ष्य हासिल

| Publish: Apr, 19 2017 05:00:00 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

भिवाड़ी. नोटबंदी और रियल एस्टेट सेक्टर में मंदी का असर भिवाड़ी यूआईटी पर अभी भी हावी है। यूआईटी की ओर से पांच साल बाद प्लॉट नीलामी की हिम्मत की गई। लेकिन लाख प्रयास के बाद भी यूआईटी के हाथ खाली रहे।

भिवाड़ी. नोटबंदी और रियल एस्टेट सेक्टर में मंदी का असर भिवाड़ी यूआईटी पर अभी भी हावी है। यूआईटी की ओर से पांच साल बाद प्लॉट नीलामी की हिम्मत की गई। लेकिन लाख प्रयास के बाद भी यूआईटी के हाथ खाली रहे। यूआईटी अधिकारी नीलामी प्रक्रिया में खरीदारों की बाट जोहते रह गए। 



नोटबंदी की वजह से टाल रखी थी नीलामी


यूआईटी की ओर से भगत ङ्क्षसह कॉलोनी स्थित अदर कम्युनिटी फैसिलिटी (ओसीएफ) भूमि की ऑनलाइन नीलामी की प्रक्रिया 22 मार्च से 12 अप्रेल तक की गई। नोटबंदी के असर को देखते हुए यूआईटी ने नीलामी की प्रक्रिया को काफी समय तक टाला था। 22 मार्च को 32 सौ और चार हजार वर्ग मीटर के दो भूखंडों के लिए 33 हजार रुपए प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से ऑनलाइन नीलामी शुरू की गई। करीब 10 करोड़ और 13 करोड़ की कीमत वाले प्लॉट पर ग्राहक भी खड़े नहीं हुए। 



किया प्रचार प्रसार


ऑनलाइन नीलामी में परिणाम न आते देख विज्ञापन दिए गए। इसके बाद भी स्थिति में सुधार नहीं आया तो यूआईटी अधिकारियों ने एनसीआर के नामचीन अस्पताल और शैक्षणिक संस्थानों में ईमेल भेजकर और फोन से संपर्क साधा। प्लॉट की एनएच 71 बी पर प्राइम लोकेशन, पीछे की तरफ 80 फीट रोड और फुल फं्रट सहित कई प्रकार की खासियतें बताईं गईं। लेकिन तमाम कोशिशें के बाद भी यूआईटी अधिकारियों को प्लॉट नीलाम करने में सफलता नहीं मिल सकी। यूआईटी अधिकारियों ने बताया कि रीयल एस्टेट सेक्टर में अभी भी मंदी का असर है। जिसकी वजह से नीलामी में खरीदार नहीं आए। 



लक्ष्य हासिल करना मुश्किल


प्लॉट नीलाम नहीं होने की वजह से यूआईटी का भूमि विक्रय से राजस्व का लक्ष्य हासिल करना मुश्किल हो रहा है। खास बात यह रही कि यूआईटी की ओर से यह नीलामी लगभग पांच साल बाद की गई। जिसमें भी उसे अपेक्षित सफलता नहीं मिली। वहीं जानकारों का कहना है कि बाजार में मंदी है। यूआईटी की ओर से जो रेट रखा गया, वह अधिक है। यदि मूल्य में कमी की जाए तो आगामी नीलामी में यूआईटी के प्लॉट नीलाम हो सकते हैं। 



की जाएगी अगली नीलामी


यूआईटी के सचिव एम एल योगी ने कहा कि ट्रस्ट कीबैठक में दोनों प्लॉट को अस्पताल और शैक्षणिक संस्थान के लिए आरक्षित किया गया है। अच्छी लोकेशन के बाद भी नीलामी में खरीददार नहीं आए। जल्द ही अगली नीलामी की जाएगी। 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned