अलवर नगर परिषद का बजट पेश, इतने करोड़ रुपए से अलवर के विकास की बात

अलवर नगर परिषद का बोर्ड का बजट पेश किया गया, बजट सत्र के दौरान काफी हंगामा हुआ।

By: Dharmendra Yadav

Published: 10 Feb 2018, 06:25 PM IST

शहर की सरकार अलवर नगर परिषद के बोर्ड की बैठक में शनिवार को बजट पर चर्चा की बजाय सदन ज्वलंत मुद्दों पर घिर गया। प्रतिपक्ष व निर्दलीय पार्षदों ने सभापति व नगर परिषद आयुक्त को कटघरे में खड़ा किया। नेता प्रतिपक्ष नेरन्द्र मीणा व अजय पूनिया ने कहा कि शहर नरक हुआ पड़ा है। आवारा पशुओं का माफिया लाखों लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहा है। लावारिश पशुओं से लोग मर नहीं रहे। एक तरह से उनकी हत्या हो रही है। जिसके लिए जिम्मेदार नगर परिषद प्रशासन के खिलाफ धारा 304 के तहत मुकदमा दर्ज होना चाहिए।

पार्षद पूनिया ने कहा कि संजय नगर व खोहरा सहित कई जगहों पर लावारिश पशुओं की टक्कर से कई बुजुर्ग लोगों की मौत हो चुकी है। शहर के अन्दर रेलवे स्टेशन, खोहरा मोहल्ला, पुराने क्षेत्र में तो पशुओं का माफिया पनप गया। रोजाना खुलेआम पशुओं को हांक कर ले जाते हैं। ऐसे लोग नगर परिषद के कर्मचारियों के इर्द-गिर्द ही नजर आते हैं। सभापति पर खुलेआम भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। पार्षदों ने सदन में ही आरोप लगाए कि ठेकेदारों से कमिशन चाहिए। जनता से कोई मतलब नहीं है। जनता ने अभी गुरुर उतारा है। फिर भी समझ में नहीं आ रहा है।

बजट की तैयारियों पर भी घेरा

नेता प्रतिपक्ष नरेन्द्र मीणा ने बजट की तैयारियों पर भी प्रशासन को घेर लिया। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि किसी मद में 100 प्रतिशत बजट बढ़ा दिया। कइ्रयों में बहुत कम। बजट भी किसी आधार से बनता है। ऐसा नहीं है मनमर्जी से जोड़ दिया या घटा दिया। आखिरी एक माह में 33 करोड़ रुपए कहां से आएगा। इस पर अधिकारी व सभापति एक दूसरे की तरफ देखने लगे।

पत्रिका की प्रतियां लहराते हुए कहा देखो शहर का हाल

नरेन्द्र मीणा ने बजट से पहले राजस्थान पत्रिका के लगातार तीन दिनों के समाचार पत्र की प्रतियों को दिखाते हुए कहा कि देखो शहर के हाल। रोजाना समाचार पत्रों में प्रकाशित हो रहा है। फिर भी कोई सुध नहीं। मनमर्जी के आंकड़े दिखाने से जनता का भला नहीं होने वाला।

सांसद ने कहा कोई भी आ जाएगा चपेट में

सांसद डॉ. करण ङ्क्षसह यादव ने कहा कि लावारिश पशुओं वाला मुद्दा ज्वलंत है। इसे गंभीरता से लिया जाए। आए दिन घटनाएं हो रही है। इसमें कोई भी चपेट में आ सकता है। यह जरूरी नहीं है कि नेता या उसका परिवार इनसे बचा रहेगा।

Show More
Dharmendra Yadav
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned