केबिनेट मंत्री के बेटों की दादागिरी, युवक से मारपीट कर किया घायल, बाद में उठाकर ले गए अपने घर

केबिनेट मंत्री के बेटों की दादागिरी, युवक से मारपीट कर किया घायल, बाद में उठाकर ले गए अपने घर

Rajeev Goyal | Publish: Dec, 21 2017 09:21:39 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

राजस्थान सरकार में केबिनेट मंत्री हेमसिंह भडाना के पुत्रों ने अलवर के शिवाजी पार्क स्थित एक छात्र से मारपीट कर उसको अपने घर ले गए।

सामान्य प्रशासन मंत्री हेमसिंह भड़ाना के पुत्रों पर मारपीट कर युवक तेजसिंह को घायल कर देने के मामले में पीडि़त के परिजन सामान्य अस्पताल में डॉक्टरों की हड़ताल के चलते बुधवार रात को घायल युवक को शहर के एक निजी चिकित्सालय में इलाज के लिए ले गए। इससे पूर्व घटना की सूचना लगने पर बड़ी संख्या में ग्रामीण व कांग्रेस जिलाध्यक्ष टीकाराम जूली सामान्य अस्पताल पहुंचे। मामले में डहरा शाहपुर निवासी युवक के पिता सतीश यादव का आरोप है कि उसका बेटा तेजसिंह यादव (30) विधि तृतीय वर्ष का छात्र है और अलवर के शिवाजी पार्क में किराए का कमरा लेकर रहता है।

उन्होंने आरोप लगाया कि बुधवार सुबह मंत्री हेमसिंह भड़ाना के बेटे सुरेन्द्र व हितेष भड़ाना सहित 10-12 युवक स्कार्पियो से उसके बेटे के कमरे पर आए और कहा कि कल हमारे पिता को किसने गाली दी थी? तेजसिंह के पता नहीं होने की कहने पर वे बोले कि वे तेरे ही साथ के लडक़े थे। आरोप है कि इसके बाद भड़ाना के बेटे व साथियों ने तेजसिंह को पीटना शुरू कर दिया और जबरन गाड़ी में पटक लिया।

वे उसे गाड़ी में पटक वीर सावरकर नगर स्थित मंत्री भड़ाना के घर ले गए और पशुओं के बाड़े में बने एक कमरे में बंद कर लोहे की रॉड आदि से मारपीट की, जिसमें तेजसिंह के सिर सहित हाथ-पैर में गंभीर चोटें आई। बाद में परिजनों ने शिवाजी पार्क में लिखित रिपोर्ट दी, जिस पर पुलिस ने मंत्री के पुत्र सहित करीब एक दर्जन जनों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

फोन पर पता चला तो छुड़वाया

पीडि़त युवक तेज सिंह के पिता का कहना है कि बुधवार शाम को जब उन्होंने अपने बेटे को कॉल किया तो उसका फोन एक दुकान पर रखा मिला। फोन उठाने वाले ने बताया कि तेजसिंह को मंत्री भड़ाना के लडक़े उठाकर ले गए हैं। इस पर वे और उनका दूसरा बेटा मंत्री भड़ाना के वीर सावरकर नगर स्थित घर पहुंचे और तेजसिंह को उनके कब्जे से छुड़ाकर अस्पताल में भर्ती कराया।

अस्पताल पहुंचे कांग्रेस नेता


घटना की जानकारी मिलते ही कांग्रेस जिलाध्यक्ष टीकाराम जूली कार्यकर्ताओं के साथ अस्पताल पहुंचे और युवक के स्वास्थ्य का हाल जान घटना के बारे में जानकारी ली। जूली ने अस्पताल से ही जिला पुलिस अधीक्षक से मोबाइल पर बात की और घटना की निष्पक्ष जांच करा दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। वहीं घटना का पता चला तो बड़ी संख्या में ग्रामीण वहां जमा हो गए और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे।

मंत्री ने कहा कांग्रेस ओछी राजनीति नहीं करे, एेसा उनके साथ भी हो सकता है

इधर, मंत्री हेमसिंह भड़ाना का कहना है कि कांग्रेस इस घटना पर ओछी राजनीति नहीं करे, एेसी घटना उनके साथ भी हो सकती है। उनके पुत्रों पर लगाए गए आरोप गलत हैं। जबकि उस समय पुत्र सुरेन्द्र सिंह जयपुर में था। सही बात यह है कि वह मंगलवार रात 8.30 बजे अपने ऑफिस में बैठे थे, इसी दौरान रात 8.32 बजे एक कार में चार-पांच लडक़े आए और गाली-गलौच करने लगे। मेरे बाहर निकलने तक वे भाग चुके थे। उनकी गाड़ी का नम्बर नोट कर निजी सचिव ने तुरंत पुलिस कंट्रोल रूम को अवगत कराया। पुलिस ने नाकाबंदी भी कराई। बाद में निजी सचिव ने एसएचओ शिवाजी पार्क, सीओ उत्तर व सीओ दक्षिण को मोबाइल पर घटना की जानकारी दी। आरटीओ अशोक शर्मा को गाड़ी नम्बर बताकर डिटेल निकलवाई। निजी सचिव रामफल व निहाल सिंह ने शिवाजी पार्क एसएचओ को लिखित में शिकायत मय मोबाइल नम्बर दी। बुधवार शाम को भी ये लडक़े हमारे घर आकर कहने लगे कि मेरा क्या बिगाड़ लोगे। इन लडक़ों ने उनकी डेयरी पर काम करने वाले प्रधान खटाना के साथ हाथापाई की। पुलिस से मांग है कि हाथापाई व गाली गलौच करने वाले लडक़ों की तुरंत गिरफ्तारी होनी चाहिए। आरोप लगाने वाला लडक़ा आदतन अपराधी है तथा पहले भी जेल जा चुका है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned