कोरोना के संकट के बीच फिलीपींस में फंसे अलवर के 50 से ज्यादा विद्यार्थी

कोरोना के संकट के बीच फिलीपींस में फंसे अलवर के 50 से ज्यादा विद्यार्थी,

अलवर. वैश्विक महामारी कोरोना का कहर दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। अलवर में पुलिस और प्रशासन की सख्ती के बाद लोगों को इसकी गंभीरता समझ आ रही है। इस कठिन समय में सबसे ज्यादा परेशान वो परिजन हैं जिनके बच्चे विदेशों में फंसे हुए हैं। फिलीपींस में इस समय अलवर के करीब 100 विद्यार्थी फंसे हुए हैं। उन्होंने बताया की अब वहां पर रहना मुश्किल हो गया है। खाने का स्टॉक समाप्त होने वाला है।

अलवर के नेहल राज ने बताया कि यातायात बंद होने से साफ़ पानी की भी कमी हो गई है। सरकार व प्रशासन से कोई मदद नहीं मिल रही। कोरोना का असर वहां भी बढ़ रहा है, प्रतिदिन लगभग 90 से 100 नए केस आ रहे हैं। अलवर के कुछ विद्यार्थियों ने बताया 19 तारीख को उनकी फ्लाइट थी, लेकिन भारत में विदेशी फ्लाइट पर रोक के बाद वे अपने घर नहीं आ पाए ऐसे में उनकी भारत सरकार से गुजारिश है की उन्हें जल्द से जल्द अपने देश लाने की व्यवस्था कराई जाए ।

ढाबे-मैस बंद, खाना मिलना हुआ मुश्किल

मनु मार्ग निवासी सुरेंद्र छाबड़ा ने बताया की उनकी बेटी गार्गी छाबड़ा फिलीपींस के मनीला में मेडिकल की पढाई कर रही है, वहां खाने का स्टॉक समाप्त होने वाला है। कर्फ्यू के कारण ढाबे- मैस आदि बंद हो गए हैं, दुकानें भी सीमित समय के लिए खुल रही हैं, घंटों लाइन में लगने के बाद भी खाने का सामान नहीं मिल रहा। परिजनों को अपने बच्चों की चिंता सता रही है, वे बच्चों को अपनी आँखों से सामने देखना चाहते हैं।


सुविधानों की कमी, अगर बीमारी फैली तो कोई मदद नहीं

फिलीपींस में रह रहे विद्यार्थियों ने अपने परिजनों को बताया की वहां सुविधाओं की कमी है। दादर निवासी राजेश शर्मा ने बताया कि उनकी बेटी दीपाली शर्मा इस समय फिलीपींस में है, वहां सुविधाओं की भारी कमी है, अगर कोई विद्यार्थी बीमार हो जाता है तो कोई वहां उनकी मदद करने वाला नहीं है, वहां प्रशासन पहले अलर्ट नहीं था, लेकिन अब हालत बिगड़ रहे हैं, सरकार ने इटली से विद्यार्थियों को एयर लिफ्ट किया, फिलीपींस में रह रहे बच्चों की भी मदद करे।


कुछ दिन के राशन पर निर्भर

मनीला में रह रहे बानसूर के अग्निवेश यादव ने बताया कि अब वहां रह रहे भारतीय छात्र कुछ दिन के राशन पर निर्भर हैं। यहाँ भारत से आटा, दाल आदि सप्लाई होता है, वो भी बंद हो चुका है, पिछले 10 दिनों में 5 किलो आटे के दाम 900 रुपए तक बढ़ गए हैं, भारतीय एम्बेसी से भी मदद नहीं मिल पा रही। यहाँ घरों में रहने के आलावा कोई चारा नहीं है।

Corona virus
Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned