कोरोना वायरस के समय में भी प्राइवेट स्कूलों के लालच का अंत नहीं, छुट्टियां हैं फिर भी लगातार मांग रहे फीस

कोरोना वायरस के समय में भी प्राइवेट स्कूलों के लालच का अंत नहीं, छुट्टियां हैं फिर भी लगातार मांग रहे फीस

By: Lubhavan

Published: 29 Mar 2020, 01:33 PM IST

अलवर. एक तरफ कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर सभी भयभीत हैं। लॉक आउट में लोग घरों में बैठे हैं। एेसे समय में कई गैर सरकारी स्कू ल के संचालकों को इसकी परवाह नहीं है। कई स्कूल संचालक इनके यहां पढऩे वाले बच्चों की बकाया फीस का भुगतान करने के लिए आए दिए अभिभावकों को फोन कर रहे हैं। एक तरफ लॉक आउट के चलते लोगों के काम धंधे बंद हो गए हैं। बहुत से मध्यम वर्गीय परिवारों के पास इतना ही जमा पूंजी है कि वे अपने घर का खर्च चला सके। एेसे में स्कूल संचालकों का बार-बार बकाया फीस के लिए तकादा करना उनके लिए मुसीबत बन गया है।

यह कहते हैं अभिभावक

बहरोड़ के समीपवर्ती गांव के रहने वाले ओमप्रकाश यादव कहते हैं कि मेरा बेटा पांचवीं कक्षा में पढ़ता है। एक प्रतिष्ठित गैर सरकारी स्कूल संचालकों ने मेरा जीना मुश्किल कर दिया है, वे एक दिन में कई बार मुझे फोन करके बच्चे की फीस जमा कराने की कह रहे हैं। अब हम किस प्रकार फीस जमा कराए।अलवर शहर के एक अभिभावक प्रियंका चौधरी ने बताया कि जयपुर रोड पर स्थित एक स्कूल में मेरी बेटी पढ़ती है। हम आफिस जा नहीं पा रहे हैं। अब हमें स्कूल से रोज फोन आ रहा है यदि आपने फीस जमा नहीं कराई तो आपके बच्चे का परीक्षा-परिणाम जारी नहीं किया जा सकेगा। इसी प्रकार अन्य अभिभावकों ने भी इसकी शिकायत की है।

कई राज्यों में हो गई फीस माफ

देश के कई राज्यों में वहां की सरकार ने बच्चों की लॉक अप की स्थिति में स्कूल बंद रहने पर इस अवधि की फीस नहीं लेने के आदेश दिए हैं। दूसरी ओर कुछ स्कूल संचालक फीस के लिए फीस के लिए अभिभावकों को परेशान कर रहे हैं।यह कहते हैं जिला शिक्षा अधिकारी-लॉकअप की स्थिति में किसी भी अभिभावक को फीस के लिए परेशान नहीं किया जा सकेगा। इन कठिन परिस्थितियों में हमें आपस में सहयोग की आवश्यकता है। फीस के आधार पर किसी बच्चे का परीक्षा परिणाम नहीं रोका जाए।- अनिल कौशिक, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी, अलवर।

Corona virus
Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned