अलवर गौ तस्करी मामला: अब इस बात पर अड़े मृतक के परिजन

अलवर गौ तस्करी मामला: अब इस बात पर अड़े मृतक के परिजन

Rajeev Goyal | Publish: Dec, 09 2017 12:10:47 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर गोतस्करी मामले में मृतक गोतस्कर के परिजन शव के पोस्टमार्टम पर अड़े रहे। उन्होंने शव का पोस्टमार्टम नहीं होने दिया।

अलवर. पुलिस व गोतस्करों की बीच मुठभेड़ में बुधवार रात मारे गए गोतस्कर तालीम के शव का शुक्रवार को भी पोस्टमार्टम नहीं हो सका। मृतक के शव को लेने उसके परिजन अस्पताल भी पहुंचे और पंचनामे पर हस्ताक्षर भी किए, लेकिन चिकित्सकों के सामूहिक अवकाश के चलते मृतक का पोस्टमार्टम नहीं हो सका।


उधर, पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गोतस्कर के अन्य साथियों का अब तक सुराग नहीं लगा सकी है। सूत्रों के अनुसार फिलहाल पुलिस को केवल इतना पता चला है कि गोतस्करों की गाड़ी को जब्बा उर्फ जब्बार चला रहा था, जो गैंग का सरगना व पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गोतस्कर तालीम का रिश्तेदार है। जब्बार के खिलाफ लूट सहित विभिन्न धाराओं में 5-7 मामले दर्ज हैं। वह भौंडसी जेल से कुछ दिन पहले ही बाहर आया था। बुधवार को गोतस्करों की गाड़ी को जब्बार ही चला रहा था। पुलिस जब्बार व उसके अन्य साथियों की तलाश कर रही है।


पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गोतस्कर तालीम के शव को लेने के लिए शुक्रवार को उसके परिजन व मेव पंचायत के संरक्षक शेर मोहम्मद सहित समाज के कई लोग सामान्य अस्पताल पहुंचे। इस दौरान पुलिस उपाधीक्षक जयसिंह नाथावत ने पंचनामे की कार्रवाई की, लेकिन मृतक का पोस्टमार्टम नहीं हो सका। कार्यवाहक पीएमओ डॉ. परमिन्दर सिंह ने बताया कि सामूहिक अवकाश के चलते शुक्रवार को रेडियोलॉजिस्ट, सर्जन सहित अन्य चिकित्साकर्मी ड्यूटी पर नहीं थे। वहीं, पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल बोर्ड की जरूरत थी। इसके चलते मृतक का पोस्टमार्टम नहीं हो सका। अब तालीम का पोस्टमार्टम शनिवार को होगा।


मौके से हटाई गोतस्करों की गाड़ी


पुलिस मुठभेड़ के बाद गोतस्करों की छोड़ी गाड़ी को गुरुवार रात पुलिस ने मौके से हटवा अरावली विहार थाने में खड़ा करा दिया। गाड़ी को जल्द ही एफएसएल जांच के लिए जयपुर भेजा जाएगा। जांच अधिकारी ने बताया कि घटना के बाद मौके पर पहुंची एफएसएल टीम ने गाड़ी से नमूने लिए। इसके बाद गोतस्करों के वाहन को रात्रि में मौके से हटवा अरावली विहार थाने में खड़ा कराया गया। जिसे जल्द ही एफएसएल जांच के लिए भेजा जाएगा।


थाना प्रभारी ने ये कराया मामला दर्ज


घटना के बाद एनईबी थाना प्रभारी ने अरावली विहार थाने में मामला दर्ज कराया कि बुधवार रात वे हैडकांस्टेबल इसरार खान, कांस्टेबल रणसिंह, राकेश, जयकिशन के साथ रात्रि गश्त पर थे। रात करीब एक बजे कंट्रोल रूम से सूचना मिली कि सोना विहार से गोतस्कर गोवंश ले जा रहे हैं। इस पर मौके पर पहुंच गोतस्करों को तलाश किया गया। फिर रात करीब दो बजे पुन: सूचना मिली कि गोतस्कर अरावली विहार थाना क्षेत्र स्थित बी लाल हॉस्पिटल के पास से गोवंश को भरकर ले जा रहे हैं। इस पर कालीमोरी ओवरब्रिज तेल मिल के पास नाकाबंदी की गई।

इस दौरान गोतस्करों की गाड़ी को रुकने का इशारा दिया गया, लेकिन उन्होंने फायरिंग व पथराव शुरू कर दिया। पथराव में थाना प्रभारी के पैर व अंगुली में चोट आई। इस पर जवाबी फायरिंग की गई।

फरार गोतस्कों की गिरफ्तारी को भेजी टीमें

 

उधर, पुलिस ने फरार गोतस्करों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित कर विभिन्न स्थानों पर भेजी हैं, लेकिन फिलहाल फरार आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। गौरतलब है कि बुधवार रात पुलिस मुठभेड़ में एक गोतस्कर की मौत के बाद उसके साथी गोतस्कर गोवंश से भरे वाहन को जनता कॉलोनी मूंगस्का स्थित एक गली में छोड़ फरार हो गए।

 

सीआईडी-सीबी की टीम ने देखा मौका

 

मामले की जांच के लिए शुक्रवार को सीआईडी-सीबी की टीम भी अलवर पहुंची और पुलिस अधिकारियों से मामले की जानकारी ली। बाद में टीम में शामिल सीआईडी-सीबी के पुलिस उपाधीक्षक सुरेश महरानिया, रीडर चेतनलाल आदि ने सीओ सिटी के साथ घटनास्थल का मौका निरीक्षण किया। उधर, मामले में एनईबी थाना प्रभारी देवेन्द्र प्रताप की ओर से अरावली विहार थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। फिलहाल मामले की जांच कोतवाल संदीप शर्मा कर रहे हैं, लेकिन तालीम के पोस्टमार्टम के बाद यह मामला सीआईडी-सीबी को सौंप दिया जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned