लखनऊ पुलिस को भी चकमा दे रहे हैं अलवर के अपराधी, असमंजस में पुलिस

लखनऊ पुलिस को भी चकमा दे रहे हैं अलवर के अपराधी, असमंजस में पुलिस

Rajeev Goyal | Publish: Feb, 05 2018 11:02:19 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

लखनऊ पुलिस ने बावरिया गिरोह के दो अलवर के बदमाशों को गिरफ्तार किया है, लेकिन अलवर पुलिस को इनका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं मिल रहा है।

अलवर. लखनऊ पुलिस की गिरफ्त में आए बावरिया गिरोह के शातिर डकैत पुलिस से भी शातिरी दिखा रहे हैं। गिरफ्तारी के बाद लखनऊ पुलिस को उन्होंने अपने नाम व पते भी गलत बताए हैं। इनमें से दो बदमाश अलवर शहर निवासी बताए जा रहे हैं, जबकि वास्तविकता ये है कि इनका अलवर शहर से कोई लेना-देना नहीं है। यदि ये शहर में रहते भी हैं तो पुलिस में इनका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। लखनऊ पुलिस के अनुसार बावरिया गिरोह के दो बदमाशों ने अपना नाम साठ फुट कोतवाली अलवर निवासी राजेश उर्फ पेटला पुत्र कन्हैया व झुग्गी थाना कोतवाली नगर अलवर निवासी मनोज उर्फ छोटू पुत्र भूरा बताया है। जबकि अलवर पुलिस के अनुसार इस नाम के किसी व्यक्ति का कोतवाली थाने में कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। पुलिस को प्रथम दृष्टया आरोपितों के बताए नाम व पते झूठे प्रतीत हो रहे हैं। दरअसल, साठ फुट थाना एनईबी में आता है, जबकि शातिर अपराधी राजेश उर्फ पेटला ने पुलिस पूछताछ में अपना पता साठ फुट कोतवाली बताया है। इन दोनों थाना क्षेत्र में इस नाम के किसी व्यक्ति का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। इसी प्रकार मनोज उर्फ छोटू ने खुद को झुग्गी थाना कोतवाली का निवासी बताया है, जबकि कोतवाली क्षेत्र में झुग्गी नाम की कोई बस्ती नहीं है। उधर, लखनऊ के कृष्णा नगर थाने के प्रभारी निरीक्षक अंजनी कुमार पाण्डेय ने बताया कि आरोपितों ने प्रारम्भिक पूछताछ में अपने नाम व पते यहीं बताए हैं। आरोपितों से पूछताछ जारी है।

शातिर हैं चारों अपराधी

लखनऊ पुलिस के अनुसार गिरफ्तार बावरिया गिरोह के चारों सदस्य शातिर अपराधी हैं। आरोपितों ने पुलिस पूछताछ में लखनऊ जनपथ में घटित आठ डकैतियों के साथ-साथ बाराबंकी में तीन व फर्रूखाबाद में डकैती डालना स्वीकारा है। वहीं, इनके तीन साथी विनोद उर्फ छोटू, राकेश उर्फ कालिया व रामवीर अभी फरार है, जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से एक बारह बोर की बन्दूक, तीन तमंचे व आठ जिंदा कारतूस व लोहे की रॉड बरामद की है। लखनऊ में गिरफ्तार बावरिया गिरोह के सदस्य अलवर के बानसूर, हरसौरा,बहरोड़, कोटपूतली सहित हरियाणा के बावल सहित भरतपुर जिले के हो सकते हैं।

लखनऊ में गिरफ्तार बावरिया गैंग के सदस्यों के अलवर में निवास की कोई जानकारी नहीं मिली है। अलवर में यदि इनका कोई आपराधिक रिकॉर्ड होता तो लखनऊ पुलिस इसका भी जिक्र व सूचना करती, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। इससे लगता है कि गिरफ्तार आरोपित कहीं और के हैं। फिर भी पुलिस अलवर से संबंध तलाश रही है।
राहुल प्रकाश, जिला पुलिस अधीक्षक अलवर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned