पोखर सहित निजी स्वामित्व वाली भूमि का किया सीमांकन

गत चार माह से कई परिवारों को गंदे पानी में रहकर नारकीय जीवन व्यतीत करना पड़ रहा था

अलवर. कठूमर एसडीएम अनिल सिंघल के निर्देश पर प्रशासनिक अमले ने कठूमर खेड़ली बाईपास पर कठूमर अरूर्वा ग्राम पंचायत की सीमा पर गैर मुमकिन पोखर सहित निजी स्वामित्व वाली भूमि का सीमांकन किया। वहीं पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को गंदे पानी के निस्तारण इस पोखर में करने के निर्देश दिए।
उल्लेखनीय है कि कस्बे के खेड़ली बाईपास पर वार्ड नंबर 7, 8, 9 के वार्डों की इस निर्माण के चलते नीचाई होने के कारण गत चार माह से कई परिवारों को गंदे पानी में रहकर नारकीय जीवन व्यतीत करना पड़ रहा था। इस बाईपास पर नाले निर्माण में कभी ट्रांसफार्मर, कभी कोर्ट में लंबित मामले, कभी अधिकारियों के अरुचि के चलते कार्य में लगातार विलंब हो रहा था। और इन वार्डों की परेशानी बढ़ती जा रही थी। नाले निर्माण में देरी होने के चलते इन वाशिंदों का धैर्य जवाब दे गया। और आंदोलन की राह पर चल पडे और मंगलवार को खेड़ली बाईपास पर जाम लगाया। टायर जलाकर प्रदर्शन किया। इसके बाद सामाजिक कार्यकर्ता पूरणमल जाटव के नेतृत्व में इन वार्डों के बाशिंदे गुरुवार को एसडीएम कार्यालय पहुंचे। और वहां एसडीएम अनिल सिंघल को अपनी व्यथा सुनाई। इस पर एसडीम अनिल सिंघल ने तुरंत प्रभाव से तहसीलदार भोलाराम व अन्य अधिकारी को बुलाकर इसका मौके पर जाकर निस्तारण करने के निर्देश दिए। एसडीएम के निर्देश पर तहसीलदार भोलाराम, कानूनगो अरुण माथुर व कठूमर सहित कई हल्का पटवारी मौके पर पहुंचे। कई घंटे कार्य कर भूमि का सीमांकन किया। तहसीलदार ने मौके पर मौजूद एनसीआर के लालाराम को गंदे पानी के निस्तारण के लिए पोखर का उपयोग करने का निर्देश दिया। इस मौके पर सरपंच प्रतिनिधि राजेश कुमार सहित सैकड़ों वार्ड वासी मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned