scriptराहत के साथ बरसी आफत, लक्ष्मणगढ़ में बरसात से सड़कें जलमग्न…पढ़ें यह न्यूज | Patrika News
अलवर

राहत के साथ बरसी आफत, लक्ष्मणगढ़ में बरसात से सड़कें जलमग्न…पढ़ें यह न्यूज

पानी निकासी के मार्गों पर अतिक्रमण के चलते बरसात के पानी की निकासी नहीं होने के चलते बरसात के पानी से सड़के जलमग्न हो गई।

अलवरJun 29, 2024 / 07:49 pm

Ramkaran Katariya

लक्ष्मणगढ़. कस्बे में शनिवार को राहत के साथ आफत की बरसात हुई। बरसात के पानी से सड़कें जलमग्न हो गई, जिससे राहगीरों के साथ व्यापारियों को भी परेशानी उठानी पड़ी।

कस्बे में सीजन की दूसरी अच्छी बरसात हुई। पानी निकासी के मार्गों पर अतिक्रमण के चलते बरसात के पानी की निकासी नहीं होने के चलते बरसात के पानी से सड़के जलमग्न हो गई। कस्बे के मोदी पट्रोल पम्प, नवीन बस स्टैंड, पंजाबी कॉलानी, पंजाब नेशनल बैंक के सामने सहित कई अन्य जगहों व सड़कों पर घुटनों तक पानी भर गया। मोदी पट्रोलपम्प के सामने कई दुकानों में पानी तक घुस गया। नवीन बस स्टैंड के सामने सड़क पर घुटनों तक पानी भरने से बाइक में पानी घुसने से दर्जनों बाइक खराब हो गईं।
उल्लेखनीय है कि पूर्व में कस्बे की नजूल सम्पत्ति में दर्ज किले की खाई में कस्बे का पूरा पानी जाता था, लेकिन पूर्व के प्रशासनिक अधिकारियों की अनदेखी के चलते लोगों की ओर से किले की खाई पर अतिक्रमण कर लिया। ऐसे में खाई की भराव क्षमता भी खत्म हो गई, जिससे बरसात के पानी की निकासी नहीं होने से सड़कों पर पानी भर जाता है, जिससे राहगीरों, स्थानीय लोगों व व्यापारियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। वही लोगों ने उपखण्ड़ अधिकारी व नगर पालिका ईओ से समस्या के समाधान की मांग की है।
पानी की निकासी कराई

नगर पालिका, लक्ष्मणगढ़ ईओ समय सिंह मीणा ने बताया कि

पालिका की टीम मौके पर पहुंची और तीन बड़े मोटर पम्प लगवाकर सड़क पर भरे पानी की निकासी करवाई। पानी निकासी के पूरे प्रयास किए जा रहे है।
किसानों ने शुरू की खरीफ फसल की बुवाई

सकट. क्षेत्र में गुरुवार को पहली बार मानसून की अच्छी बारिश होने के बाद सकट सहित आसपास के अन्य कई गांवों के किसानों ने खेतों में खरीफ की फसल मक्का, बाजरा, ज्वार, उड़द, मूंग, तिल्ली आदि फसलों की बुवाई शुरू कर दी है। खरीफ फसलों की बुवाई को लेकर बाजार में खाद-बीज की दुकानों पर इन दिनों किसानों की भीड़ देखने को मिल रही है।
सकट गांव के किसान सेवा केंद्र की कृषि पर्यवेक्षक प्रियंका मीणा ने बताया कि किसान खेतों में बुवाई करते समय बीज को उपचारित कर ही बोए व बीज खरीदते समय किसान बाजरा फसल की संकर किस्मों का प्रयोग करें। कोई भी किसान बीज खरीदते समय बीज की गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखें तथा बीज पर अंकित अधिकतर दर से अधिक भुगतान नहीं करें। बीज की थैली पर लॉट नंबर अंकुरण क्षमता प्रतिशत अनुवांशिक शुद्धता भौतिक शुद्धता तथा उत्पादक का नाम पता वैद अवधि व बुवाई के क्षेत्र विशेष में सिफारिश इत्यादि लेवल देखकर ही बीज खरीदें। साथ ही दुकानदार से बीज का बिल आवश्यक रूप से ले।

Hindi News/ Alwar / राहत के साथ बरसी आफत, लक्ष्मणगढ़ में बरसात से सड़कें जलमग्न…पढ़ें यह न्यूज

ट्रेंडिंग वीडियो