शिकारियों को सजा दिलाने को लेकर एक दूसरे से किया विचार-विमर्श

सरिस्का में कानून विशेषज्ञों की कार्यशाला

अलवर. सरिस्का टाईगर रिजर्व की शनिवार को दो दिवसीय कानून विशेषज्ञों की कार्यशाला एनआईसी भवन में शुरू हुई। कार्यशाला में अलवर, सरिस्का, जयपुर, झुंझनूं तथा दौसा के उपवन संरक्षकों, एसीएफ, रेंजरों ने भाग लिया।
कार्यशाला में सरिस्का में चल रहे पुराने पोचिंग केसों के लम्बित प्रकरणों के बारे में चर्चा की गई तथा उन मामलों में आरोपियों को कठोर से कठोर सजा कैसे दिलवाई जाए। इस पर विचार-विमर्श हुआ। सरिस्का क्षेत्र की रेंज टहला क्षेत्र में बाघ पोचिंग व पैंथर के बारे में जानकारी ली। कार्यशाला में दिल्ली हाईकोर्ट व टाईगर ट्रस्ट सीओ अंजना गोसाईं, अलवर से संजय कारगवाल, मंजीत सिंह आलूवालिया मौजूद हैं। दो दिवसीय कार्यशाला का समापन रविवार को होगा। कार्यशाला में सरिस्का सीसीएफ घनश्याम शर्मा, डीएफ ओ सेढूराम यादव, एसीएफ सुरेन्द्र सिंह धनकड़, जितेंद्र सिंह चौधरी, संतोष कुमार वर्मा सहित कई अधिकारी मौजूद थे।


शाकाहारी वन्यजीव गणना में दिखा चीतलों का दल
नारायणपुर. सरिस्का अभयारण्य में चल रही वन्यजीव गणना के पांचवें दिन शनिवार को शाहाकारी वन्यजीवों की गणना शुरू हुई। गणना के दौरान सरिस्का अभयारण्य क्षेत्र की कई रेंजों में चीतलो के दल ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। शाकाहाकारी वन्यजीवों के साथ वनस्पति, पेड़, पौधों की मौजूदगी भी दर्ज की जा रही है। शाकाहारी वन्यजीव की गणमना 17 दिसंबर को समाप्त होगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned