scriptसिल्ट की वजह से जयसमंद में नहीं ठहर पाता पानी | Patrika News
अलवर

सिल्ट की वजह से जयसमंद में नहीं ठहर पाता पानी

प्रशासन चाहे तो अलवर शहर के पानी की समस्या को कुछ हद तक दूर कर सकता है। शहर के नजदीक जयसमंद बांध में बरसों से जमी गाद (सिल्ट) को अगर हटा दिया जाए तो यहां पानी को लंबे समय तक स्टोरेज करके रखा जा सकता है। इस सिल्ट की वजह से पानी ठहर नहीं पाता है।

अलवरJun 23, 2024 / 08:07 pm

Pradeep

बांध में 2003 में आ चुका है 24 फीट पानी, अभी 10 से 15 फीट खुदाई की जरूरत
अलवर. प्रशासन चाहे तो अलवर शहर के पानी की समस्या को कुछ हद तक दूर कर सकता है। शहर के नजदीक जयसमंद बांध में बरसों से जमी गाद (सिल्ट) को अगर हटा दिया जाए तो यहां पानी को लंबे समय तक स्टोरेज करके रखा जा सकता है। इस सिल्ट की वजह से पानी ठहर नहीं पाता है।
बांध में कठोर सिल्ट जमा है, जिसकी वजह बांध की गहराई पर भी असर पड़ा है।
अगर बांध की 10 से 15 फीट तक खुदाई की जाती है तो न केवल भूमिगत जल स्तर बढ़ेगा, बल्कि बांध में भी पानी का ज्यादा स्टोरेज हो सकेगा। साथ ही जिला प्रशासन और ङ्क्षसचाई विभाग तक आने वाले पानी के रास्तों से भी अतिक्रमण हटेगा तो यहां पानी की आवक भी बढ़ेगी। यह जिले का सबसे बड़ा बांध है और सिलीसेढ़ से लगभग डेढ़ गुणा बड़ा है। यहां छतरियां भी बनी हुई हैं। बांध कई बार पूरा लबालब भर चुका है। पानी के रास्तों से भी अतिक्रमण हटेगा तो यहां पानी की आवक भी बढ़ेगी।
सिलीसेढ़ झील में भी सिल्ट की समस्या…
सिलीसेढ़ झील में सिल्ट की समस्या है। यहां 5 से 7 फीट गाद जमा है। इससे पानी का रिचार्ज नहीं हो पाता है। इसके डूब क्षेत्र में अतिक्रमण भी ज्यादा हैं। यहां भी गाद को हटा दिया जाए तो पानी भराव 7 फीट तक बढ़ सकता है।
बांध में इस प्रकार हुई पानी की आवक
वर्ष पानी (फीट में)
1993- 17.11
1994- 15.6
1995- 11.3
1996- 23
1997 – 20.9
1998 – 22.4
1999- 14.8
2002- 11.10
2003- 24
2004- 11.10
2005- 16
2006- 7.7
2007- 10
2008- 15.11
2010- 12.4
2011- 7.1
2012- 12.4
2013- 6.4
2016- 12.2
2017- 3.8
2018- 4
2019- 7.11
2021- 7.2
जयसमंद पाल के पास से 42 बीघा भूमि पर अवैध प्लॉङ्क्षटग को प्रशासन ने किया ध्वस्त
मालाखेड़ा. केसरपुर तथा जयसमंद बांध की सरकारी जमीन पर भू- माफिया की ओर से अवैध प्लॉङ्क्षटग को कलक्टर की ओर से बनाई टीम ने शनिवार को ध्वस्त कर दिया। इससे भू- माफिया में हडक़ंप मच गया। जिला कलक्टर आशीष गुप्ता ने मामले को गंभीरता से लेते हुए मत्स्य विभाग की केसरपुर में 42 बीघा जमीन तथा जयसमंद बांध के समीप अवैध रूप से प्लाङ्क्षटग हटाने के लिए टीम का गठन किया। जिसमें यूआईटी के अधिकारी, अलवर तहसीलदार, भू अभिलेख निरीक्षक, पटवारी को शामिल किया गया तथा अतिरिक्त पुलिस जाब्ता मौके पर भेजा। शनिवार को अवैध प्लॉङ्क्षटग से किए गए सभी निर्माण को ध्वस्त कर दिया गया। उपखंड अधिकारी अलवर प्रतीक चंद्रशेखर जूईकर ने बताया केसरपुर में मत्स्य विभाग की राजस्व रिकॉर्ड में करीब 42 बीघा जमीन दर्ज रिकार्ड है। वहीं जयसमंद बांध के बहाव क्षेत्र में सरकारी जमीन है। जहां इस सरकारी जमीन पर भू -माफियाओं ने अतिक्रमण कर प्लॉङ्क्षटग कर दी, जो गैर कानूनी थी। जहां शनिवार को इस सरकारी भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराया गया। उन्होंने बताया जिला कलक्टर आशीष गुप्ता के निर्देश में अलवर उपखंड क्षेत्र में जहां कहीं भी इस प्रकार की सरकारी भूमि पर अतिक्रमण किया हुआ है, उसे मुक्त कराने का अभियान जारी रहेगा। उन्होंने बताया जिला कलक्टर आशीष गुप्ता के निर्देश में अलवर उपखंड क्षेत्र में जहां कहीं भी इस प्रकार की सरकारी भूमि पर अतिक्रमण किया हुआ है, उसे मुक्त कराने का अभियान जारी रहेगा।

Hindi News/ Alwar / सिल्ट की वजह से जयसमंद में नहीं ठहर पाता पानी

ट्रेंडिंग वीडियो