अलवर उपचुनाव: न गीत न ठट्टा, मतदाताओं ने लगाया ठप्पा

अलवर उपचुनाव: न गीत न ठट्टा, मतदाताओं ने लगाया ठप्पा

Rajeev Goyal | Updated: 30 Jan 2018, 10:44:59 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर लोकसभा उपचुनाव में इस बार था बेहद अलग नजारा, माहौल था बेहद अलग।

अलवर. मतदान का जिक्र आते ही अनायास मस्तिष्क में एक चित्र उभरता है कि महिलाएं समूह मेें गीत गाते आई होंगी। मतदान केन्द्रों के बाहर मेले सा माहौल और ठहाकों की गूंज रही होगी। कुछ बुजुर्ग समीप ही हुक्का सुलगा रहे होंगे, तो युवा कैम्पेनिंग में लगे होंगे, लेकिन सोमवार को अलवर लोकसभा उपचुनाव के लिए हुए मतदान में ऐसा कुछ नहीं था। न मतदान के दौरान गाए जाने वाले लोकगीत थे और ना हंसी-ठट्टा। मतदान केन्द्र व उसके आस-पास सन्नाटा था। गांवों में लोग अपने खेत-खलिहानों में लगे थे। इस दौरान लोगों ने मतदान किया, लेकिन अपनी सुविधानुसार। कोई आया तो कोई नहीं आया। इसका नतीजा यह रहा कि लोकसभा उपचुनाव में इस बार पिछले लोकसभा चुनाव से भी कम मतदान हुआ। मतदान में लोगों की रुचि व उत्साह का आलम ये था कि सुबह 9 बजे तक कई बूथों पर तो बामुश्किल खाता खुला था। ततारपुर के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में बने एक बूथ पर केवल 32 मत पड़े। यहां कतार में केवल चार मतदाता लगे थे। वहीं, इसी विद्यालय में बने दूसरे बूथ पर केवल 24 लोगों ने अपने मत का प्रयोग किया।

नीमराणा, मुण्डावर में भी शांति: मतदान के दौरान महिलाओं के समूह में गीत गाते आने और हंसी-ठहाकों से जिंदादिली के लिए पहचाने जाने वाले मुण्डावर में भी सोमवार को मतदान को लेकर ज्यादा उत्साह देखने को नहंी मिला। इसी विधानसभा क्षेत्र के नीमराणा में भी मतदाता अपनी सुविधानुसार मतदान के लिए निकले। नीमराणा के राउमावि में बने एक बूथ पर दोपहर 11.30 बजे तक केवल 179 वोट पड़े। मुण्डावर के चिरुनी राउमावि मतदान केन्द्र पर भी ग्रामीण अंचल होने के बावजूद 159 वोट डले। यहीं बने एक अन्य बूथ पर 195 मतदाताओं ने वोट डाले। मुण्डावर कस्बे के विद्यालय में बने बूथ पर भी शांति पसरी हुई थी। मतदानकर्मी बैठे-बैठे मतदाताओं का इंतजार कर रहे थे।

दोपहर बाद बढ़ी हलचल

ग्रामीण क्षेत्र में दोपहर बाद अवश्य मतदान को लेकर कुछ हलचल बढ़ी। हालांकि इस दौरान भी ऐसा कोई बूथ नजर नहीं आया, जिस पर मतदाताओं की लम्बी कतार लगी हो। इतना जरूर था कि इस दौरान महिला मतदाता घर से निकली और वोट डालने पहुंची। दोपहर करीब 1 बजे किशनगढ़बास के हरसौली के मतदान केन्द्रों पर महिलाएं समूह में वोट डालने पहुंची। हरसौली में जाट, सैनी, वाल्मीकि मतदाता अधिक होने के चलते यहां कुछ चुनावी रंगत लगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned