गर्भवती महिलाओं के साथ फर्जी तरीके से करते थे यह काम, राजस्थान सहित हरियाणा में भी फैला है नेटवर्क

पीसीपीएनडीटी की टीम ने कार्रवाई करते हुए दलाल व लैब संचालक को गिरफ्तार किया है।

By: Prem Pathak

Published: 20 Jul 2018, 11:15 AM IST

अलवर. राज्य पीसीपीएनडीटी जांच दल ने बुधवार देर रात फर्जी तरीके से भ्रूण परीक्षण कर ठगी करते कोटपूतली के नारेड़ा निवासी एक लैब संचालक ओमप्रकाश यादव एवं दलाल बानसूर के गांव माजरा अहीर निवासी सुरेन्द्र यादव को गिरफ्तार किया है। अघ्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनडीटी नवीन जैन ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिल रही थी कि दौसा, अलवर व भरतपुर जिले में कुछ दलाल गर्भवती महिलाओं का भ्रूण जांच कराते हैं। दलालों से फोन पर बात कर सूचना का सत्यापन कराया गया। इसके बाद डिकाय ऑपरेशन के लिए दल गठित किया गया।

दल ने एक फर्जी गर्भवती महिला व उसके सहयोगी को 25 हजार रुपए की राशि देकर दलाल के पास भेजा। दलाल ने फर्जी गर्भवती महिला व उसके सहयोगी को दौसा के कलक्ट्री सर्किल पर बुलाया। वहां से दलाल एक वाहन में उन्हें कोटपूतली के नारेड़ा लेकर पहुंचा। नारेड़ा में दलाल सुरेन्द्र गर्भवती महिला व उसके सहयोगी को नीलकंठ लैब पर ले गया।

वहां देर रात लैब टेक्निशियन ओमप्रकाश ने कमरे में अंधेरा कर जैल लगाकर डिब्बीनुमा वस्तु से फर्जी गर्भवती महिला की जांच कर मनगढंत रूप से भ्रूण परीक्षण की जानकारी दे दी। इशारा मिलते ही टीम ने दलाल व लैब संचालक को गिरफ्तार कर जैल, डिब्बीनुमा वस्तु व जांच के एवज में ली गई राशि मौके से बरामद कर ली। टीम में सीआई अरुण, हरिनारायण, कांस्टेबल लालूराम, पीसीपीएनडीटी समन्वयक जयपुर प्रथम बबीता चौधरी, जयपुर द्वितीय मनीषा शर्मा, दौसा के मुनिन्द्र शर्मा, अलवर के गफूर खान व भरतपुर के प्रवीण कुमार शामिल थे।

कई जिलों में फैला था दलाल का नेटवर्क

राज्य समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनडीटी नवीन जैन ने बताया कि जांच में पता चला है कि दलाल सुरेन्द्र का राजस्थान के जयपुर, भरतपुर, दौसा सहित हरियाणा के कुछ जिलों में भी नेटवर्क फैला हुआ था। अब तक वह 40 से अधिक फर्जी भ्रूण परीक्षण जांच करा चुका था। गौरतलब है कि दलाल सुरेन्द्र का बहरोड़ में निजी क्लिीनिक है। उसकी योग्यता भी बीईएमएस है।

Prem Pathak Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned