पत्नी छोड़कर चली गई तो अपनी 10 वर्षीय बेटी से बलात्कार करता था पिता, अब अंतिम सांस तक रहना पड़ेगा जेल में

पिता अपनी 10 वर्षीय बेटी से बलात्कार करता था, अब उसे अंतिम सांस तक जेल में रहना पड़ेगा।

By: Lubhavan

Published: 13 Mar 2020, 01:58 PM IST

अलवर. पिता अपनी बेटी के साथ लगातार बलात्कार करता रहा, अब उसे अंतिम सांस तक जेल की सलाखों के पीछे रहना पड़ेगा। विशिष्ट न्यायालय ( पोक्सो एक्ट संख्या-3 ) के न्यायाधीश राजेन्द्र शर्मा ने गुरुवार को दस वर्षीय नाबालिग पुत्री से बलात्कार के दोषी पिता को मृत्यु तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही 25 हजार रुपए अर्थदण्ड आदेश भी दिया है। विशिष्ट लोक अभियोजक राजकुमार गंगावत ने बताया कि मूलरूप से गुजरात निवासी अभियुक्त अपने परिवार सहित अलवर के खैरथल इलाके में रहता था। वह शराब का आदि था। शराब के लिए पैसे नहीं देने पर वह अक्सर अपनी पत्नी से मारपीट करता था।

इससे दुखी होकर पत्नी उसे और दो बच्चियों को छोड़कर बेटे के साथ गुजरात चली गई। इसके बाद अभियुक्त की हैवानियत और ज्यादा बढ़ गई। वह दोनों बच्चियों को अपने पास सुलाता और बलात्कार करता। बड़ी बहन की मृत्यु के बाद 10 वर्षीय अबोध बालिका अभियुक्त पिता के पास अकेली रह गई। बालिका के विरोध के बावजूद पिता उसके साथ बलात्कार करता रहा। उसके साथ मारपीट भी करता था। अभियुक्त ने एक दिन बालिका को हाथ-पैर बांधकर पटक दिया। किसी तरह से बालिका बंधन मुक्त होकर घर से भागी और रास्ते में पुलिस को मिल गई। पुलिस ने बालिका को आरती बालिका आवास गृह पहुंचा दिया, लेकिन डरी सहमी बालिका पुलिस और बालिका गृह के सदस्यों को आपबीती नहीं बता सकी। बालिका ने हिम्मत कर 30 मार्च 2019 को पहली काउंसलिंग के दौरान आपबीती बताई।

बालिका आवास गृह के सदस्यों ने पीडि़ता के बयानों के आधार पर पुलिस अधीक्षक अलवर के माध्यम से 2 अप्रेल 2019 को खैरथल थाने में मामला दर्ज कराया। इसके बाद पुलिस ने बलात्कार के अभियुक्त पिता को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। जो कि न्यायिक अभिरक्षा में था। गुरुवार को विशिष्ट न्यायाधीश राजेन्द्र शर्मा ने अभियोजन साक्ष्य और सबूतों के आधार पर आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इसके बाद अभियुक्त को जेल भेज दिया गया।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned