पिता का साया नहीं सिर पर, किन्नर समाज ने बढ़ाए मदद को हाथ

पिछले दिनों पांच मासूम बच्चों की मां प्रेमी संग भाग गई थी

By: Shyam

Published: 03 Jan 2020, 01:24 AM IST

अलवर. खैरथल कस्बे के वार्ड नंबर 3 भूड़ा वाली की कच्ची बंजारा बस्ती में रहने वाले एक परिवार पर दु:खों का पहाड़ टूट पड़ा है। परिवार की महिला गत दिनों अपने पांच मासूम बच्चों को छोडकऱ अपने प्रेमी के संग भाग गई और परिवार के मुख्यिा की बीमार के चलते मौत हो गई। अब किन्नर समाज ने बच्चों की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है।
जानकारी के अनुसार धर्मवीर अपनी पत्नी गीता, पांच बच्चों व मां सुआ देवी के साथ कच्चे झोपड़ीनुमा आशियाने में गुजर बसर कर रहा था। गत दिनों अचानक बीमारी से धर्मवीर की मौत हो गई। परिवार में कमाने वाला कोई नहीं होने से के चलते मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा। परिवार की आर्थिक स्थिति देखकर कर गीता अपने 11 वर्ष के रणवीर, रवीना (8), सकीना (6), सुनील (8) व 18 माह का दूध पीता बच्चे तथा सास 85 वर्षीय सुआ देवी को छोडकऱ अपने प्रेमी के साथ भाग गई। बच्चों व सुआ देवी के सामने खाने-पीने का संकट हो गया। बच्चों के भूखे प्यासे देख कुछ परोपकारी संस्थाओं ने उनकी मदद के लिए हाथ बढ़ाए। उनको राशन का सामान, कपड़े व सिर छुपाने के लिए एक तिरपाल लगा कर उनका आशियाना तैयार करा कर दे दिया। यहां भी दुर्भाग्य ने पीछा नहीं छोड़ा। इनके पास राशन आदि सामान देख कर रिश्तेदार आ गए और इज्जत का हवाला देते हुए सभी को अपने साथ ले गए । वहां सामान खत्म होने के बाद दो तीन दिन पहले वापस खुले आसमान के तले छोड़ कर चले गए । परिवार की हालत देखकर कस्बे के किन्नर समाज ने दोनों समय का भोजन व अन्य सामान की जिम्मेदारी ली है।
कस्बे की किन्नर संजना देवी ने बताया कि लोगो ंसे मिलने वाली बख्शीस में से मंै अपने भोजन के लिए ही रखती हूं बाकी पैसे गरीब जरूरत मंद लोगों ंपर खर्च करती रहती हूं । संजना देवी के साथ रहने वाले अनिल गुर्जर, मुस्कान किन्नर, कई किन्नरों ने भी इनकी मदद कर रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned