राजस्थान का ख़ास गणगौर पर्व आज, घरों में ही होगा पूजा, कोरोना के चलते नहीं निकलेगी सवारी

घरों में ही होगा पूजा, कोरोना के चलते नहीं निकलेगी सवारी

अलवर. चैत्र शुक्ल तृतीया को शुक्रवार को गणगौर का पर्व घर-घर में श्रद्धा और आस्था के साथ मनाया जाएगा । महिलाएं पति की लंबी आयु और सुख समृद्धि की कामना के लिए गणगौर की पूजा करेंगे । इस अवसर पर गणगौर के गीत गोरिए गणगौर माता गोर गोर गोमती ईसर पूजे पार्वती आदि भी गाए जाएंगे। गणगौर माता की दूब और फूलों से पूजा जी की जाएगी साथ ही उनको गुने भी चढ़ाए जाएंगे इस बार कोरोनावायरस के चलते गणगौर का पर्व भी औपचारिक रूप से ही बनाया जाएगा ।

इसके अलावा जो महिलाएं गणगौर का उद्यापन करना चाहती थी। वे इस बार गणगौर का उद्यापन भी नहीं कर पा रही है गणगौर के चलते बाजार में मिलने वाली रेडिमेड गणगौर की बिक्री भी कम ही हुई। लोग गणगौर कम ही ले पाए इसके चलते अब घरों में ही मिटटी से गणगौर तैयार कर उसको सजाया जाएगा । इधर गणगौर से 1 दिन पहले सिंजारा पर्व मनाया गया लेकिन सिंजारे का उत्साह भी नजर नहीं आया । बाजार में हलवाई की दुकान बंद होने के कारण इस दिन गुणों की खरीदारी नहीं हो पाई ।

इस दिन नव विवाहिता ओं के ससुराल से पुणे और घेवर आते हैं जिसके चल जिसकी बाजार में बहुत मांग रहती है। गणगौर की पूजा भी की जाती है । समय अभाव के कारण महिलाएं बाजार से ही खरीददारी करती हैं लेकिन इस बार घर में ही गुने बनाए गए।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned