राजस्थान में गैस एजेन्सियां कर रही जनता की जान से खिलवाड़

राजस्थान में गैस एजेन्सियां कर रही जनता की जान से खिलवाड़

Rajeev Goyal | Updated: 18 Jan 2018, 11:02:17 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

सरकार के नियमों को ठेंगा दिखा शहर में सिलेण्डरों के बहाने जान से खिलवाड़ का खेल चल रहा है। इनसे कब हादसा हो जाए? यह किसी को नहीं पता है।

सरकार के नियमों को ठेंगा दिखा शहर में सिलेण्डरों के बहाने जान से खिलवाड़ का खेल चल रहा है। शहर में कई गैस एजेन्सियों ने सडक़ किनारे अवैध डम्पिंग यार्ड (प्वाइंट) बना रखे हैं। इन डम्पिंग यार्ड में एक-दो नहीं बल्कि सैकड़ों भरे सिलेण्डर एकसाथ रखे जाते हैं। इनसे कब हादसा हो जाए? यह किसी को नहीं पता है। सच्चाई ये है कि इन अवैध डम्पिंग यार्डों पर आग बुझाने एवं सिलेण्डर फटने जैसी स्थितियों से निपटने के भी कोई इंतजाम नहीं है। ऐसा नहीं है कि गैस कम्पनियों को शहर में चल रहे इस जानलेवा गोरखधंधे की जानकारी नहीं है। उन्हें इसकी पूरी जानकारी है, लेकिन वे किस डर अथवा भय से कार्रवाई से बच रही हैं? यह समझ से परे है।

नहीं लिया एक्शन

शहर में बने अवैध डम्पिंग यार्ड के खिलाफ दोनों संबंधित विभाग कार्रवाई की बात अवश्य कहते हैं, लेकिन कार्रवाई कोई नहीं करता। करीब पांच दिन पहले जिला रसद अधिकारी ने भी इन यार्ड के खिलाफ कार्रवाई की बात कहीं, लेकिन कार्रवाई तो दूर शहर में चल रहे इन यार्ड को देखा तक नहीं। जबकि साउथ-वेस्ट ब्लॉक में एक गैस कम्पनी के सिलेण्डरों से अवैध रिफिलिंग का मामला सामने आने पर विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। तब भी उन्हें सडक़ किनारे सिलेण्डर रखे मिले थे।

ऊपर बिजली के तार, नीचे अवैध डम्पिंग यार्ड

शहर में एनईबी थाने के समीप बुधवार को एक अवैध डम्पिंग यार्ड तो बेहद भयावह स्थिति में चल रहा था। डम्पिंग यार्ड के ऊपर से बिजली के तार गुजर रहे थे और उसके नीचे गैस से भरे दर्जनों सिलेण्डर रखे हुए थे। किसी कारण से बिजली का तार टूटकर इन पर गिर जाता तो पूरा का पूरा शहर तबाह हो सकता था। इसके बावजूद न गैस कम्पनियों ने और न पुलिस ने थाने से चंद कदम के फासले पर चल रहे इस डम्पिंग यार्ड को हटवाने की जहमत उठाई। पूरे दिन यह डम्पिंग यार्ड हादसे को न्योता देता रहा।

कदम-कदम पर रखे थे सिलेण्डर

अग्रसेन चौराहे से एनईबी थाने की ओर जाने वाले मार्ग पर बुधवार को सडक़ किनारे जगह-जगह सिलेण्डर रखे हुए थे। एक स्थान पर तो सिलेण्डरों से भरी गाड़ी खाली भी हो रही थी। वहीं, मंडी के पीछे भी एक अवैध डम्पिंग यार्ड बना हुआ था। जबकि गैस कम्पनियों के स्पष्ट निर्देश है कि उपभोक्ताओं को गैस सिलेण्डरों की डिलीवरी गोदाम से सीधे घर पर मिलनी चाहिए। सार्वजनिक स्थल पर सिलेण्डर केवल गैस कम्पनी के वाहन में होने चाहिए।

 

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned