अस्पताल में जांच के बाद हो सकते हैं बीमार

सेंट्रल लैब की जांच मशीनों की कई सालों से जांच नहीं हुई है। इसलिए यह मशीन गलत रिपोर्ट देती हैं।

By: Himanshu Sharma

Published: 04 Jan 2018, 09:47 PM IST

अलवर.

राजीव गांधी सामान्य अस्पताल की सेंट्रल लैब में बीते एक सप्ताह से तीन मशीन खराब हैं। एेसे में यहा होने वाली ज्यादातर जांच नहीं हो रही। अस्पताल में आने वाले हजारों मरीजों को जांच के लिए निजी लैब में जाना पड़ रहा है। अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजनों को ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है।

 

जिला अस्पताल में सबसे अधिक मरीज सामान्य अस्पताल में इलाज के लिए आते हैं। यहां अलवर के अलावा, भरतपुर, नूंह, मथुरा, दौसा सहित आसपास के कई जिलों के मरीज आते हैं। इसलिए प्रतिदिन अस्पताल में तीन हजार से अधिक मरीजों की ओपीडी रहती है तो, वार्डों में ३५० मरीज भर्ती रहते हैं। अस्पताल की सेंट्रल लैब में प्रतिदिन एक हजार से १२०० मरीजों की जांच होती है। बीते एक सप्ताह से लैब की बॉयोकेमेस्ट्री व सीबीसी जांच मशीन खराब पड़ी हुई हैं। लैब में बॉयोकेमेस्ट्री की दो व सीबीसी की एक जांच मशीन हैं। इन दोनों मशीनों से २० से अधिक तरह की जांच होती हैं। लैब में अभी केवल ब्लड शुगर व यूरिया जांच हो रही है। अन्य जांच के लिए मरीजों को निजी लैब में चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। निजी लैब में मरीजों के मनमाने पैसे वसूले जा रहे हैं।

 

कुछ मशीन से मिल रही है गलत रिपोर्ट

सेंट्रल लैब की सीबीसी जांच मशीन गलत जांच रिपोर्ट दे रही है। दरअसल नियम के हिसाब से मशीनों को कैमिकल से चैक किया जाता है व उसकी जांच को देखा जाता है कि मशीन ठीक रिपोर्ट दे रही है या नहीं। लेकिन सेंट्रल लैब की जांच मशीनों की कई सालों से जांच नहीं हुई है। इसलिए यह मशीन गलत रिपोर्ट देती हैं।

 

प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. भगवान सहाय ने बताया कि इंजीनियरों को मशीन खराब होने की सूचना दे दी गई है। जिस मशीन का रिजेंट नहीं है, उसका रिजेंट भी मंगवाया जा रहा है। जल्द ही व्यवस्था सामान्य करने के प्रयास जारी हैं। मशीनों की जांच के लिए भी इंजीनियरों व सम्बंधीत कम्पनी को पत्र भेजा हुआ है। जल्द ही रिपोर्ट गलत आने की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

Himanshu Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned