भिवाड़ी मॉब लिंचिंग : हरीश जाटव के पिता की मौत के बाद हंगामा, धरने पर बैठे ग्रामीण और भाजपा नेता, नहीं होने दे रहे पोस्टमार्टम

Lubhavan Joshi | Publish: Aug, 16 2019 11:02:17 AM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

Bhiwadi Harish Jatav Mob Lynching : भिवाड़ी में मॉब लिंचिंग में हरीश जाटव की मौत के बाद अब उसके पिता ने भी जहर खाकर आत्महत्या कर ली, इसके बाद इलाके में हंगामे का माहौल है।

अलवर. Bhiwadi Harish Jatav Mob Lynching अलवर जिले के ( bhiwadi mob Lynching ) भिवाड़ी में हरीश जाटव मॉब लिंचिंग प्रकरण ( harish jatav mob lynching ) में हरीश जाटव के पिता ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। हरीश जाटव के पिता रतिराम ने गुरुवार शाम सेल्फॉस खा लिया, इसके बाद उन्हें अलवर सामान्य अस्पताल के लिए रैफर किया गया, जहां ले जाते समय रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। उनके शव को वापस टपूकड़ा लाया गया। उनके शव को टपूकड़ा सीएचसी में रखवाया गया है। वहीं टपूकड़ा सीएचसी में ग्रामीण हंगामा कर रहे हैं, मृतक रतिराम के परिवार के सदस्य विलाप कर रहे हैं। टपूकड़ा सीएचसी में भीड़ जमा है। ग्रामीण रतिराम का पोस्टमार्टम नहीं होने दे रहे हैं। ग्रामीणों की मांग है कि जब तक मॉब लिंचिंग के आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता, वे मृतक रतिराम का पोस्टमार्टम नहीं होने देंगे।

टपूकड़ा सीएचसी के बाहर धरने पर बैठे भाजपा नेता और ग्रामीण

पहले हरीश जाटव की मौत और अब उसके पिता रतिराम की आत्महत्या के बाद इलाके का माहौल गरमा गया है, टपूकड़ा सीएचसी पर भाजपा नेताओं ने धरना दे दिया है। अलवर ग्रमाीण से भाजपा प्रत्याशी और जिला महामंत्री रामकिशन मेघवाल, पूर्व विधायक मामन सिंह यादव, भिवाड़ी नगर परिषद सभापति संदीप दायमा सहित कई भाजपा नेता और पदाधिकारी धरने पर बैठ गए हैं।
भाजपा महामंत्री रामकिशन ने कहा कि पुलिस प्रशासन दलितों के साथ अन्याय कर रहा है। रामकिशन ने पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस ने हरीश जाटव के पिता पर लेन-देन से मामले का फैसला करने का दबाव बनाया, टपूकड़ा में एसपी औ आईजी आए, लेकिन कार्रवाई नहीं की, उन्होंने कहा कि उनकी मांग है कि सरकार हरीश जाटव के आरोपियों को गिरफ्तार करे और सरकार हरीश जाटव की पत्नी को सरकारी नौकरी दे।

यह है प्रकरण

चौपानकी थाना इलाके के गांव झिवाणा निवासी हरीश जाटव पुत्र रतिराम जाटव 16 जुलाई की रात को फलसा गांव में गंभीर घायल व अचेत अवस्था में पड़ा मिला। पुलिस ने उसे भिवाड़ी सीएचसी में भर्ती कराया। हालत गंभीर होने पर परिजन उसे इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले गए। वहां 18 जुलाई को हरीश की मौत हो गई। इससे एक दिन पहले 17 जुलाई को पिता रतिराम ने फलसा गांव के कुछ लोगों के खिलाफ बाइक भिडऩे की बात पर हरीश के साथ गंभीर मारपीट करने का प्रकरण दर्ज कराया। वहीं, दूसरे पक्ष के जमालुदीन ने अपनी पत्नी हकीमन को बाइक से टक्कर मारने का मामला हरीश के खिलाफ दर्ज कराया था।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned