गैंगस्टर हरिया ने इतने लाख में बेचे थे नीमराणा में ज्वेलर से लूटे गए जेवरात, किए और भी कई खुलासे

गैंगस्टर हरिया ने इतने लाख में बेचे थे नीमराणा में ज्वेलर से लूटे गए जेवरात, किए और भी कई खुलासे

Rajeev Goyal | Publish: Feb, 15 2018 09:23:46 AM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 09:23:47 AM (IST) Alwar, Rajasthan, India

कुख्यात गैंगस्टर हरिया ने पुलिस पूछताछ में और भी कई खुलासे किए है, पुलिस उससे लगातार पूछताछ कर रही है।

अलवर. नीमराणा में ज्वेलर से लूट के मुख्य आरोपित एवं कुख्यात अपराधी पवन उर्फ हरिया गुर्जर को मंगलवार देर रात पलवल पुलिस ने दिल्ली के दलपुरा इलाके से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित की गिरफ्तारी पर हरियाणा पुलिस की ओर से एक लाख रुपए का ईनाम घोषित था। हरिया के खिलाफ फरीदाबाद, पलवल, दिल्ली, उत्तरप्रदेश सहित राजस्थान के विभिन्न थानों में हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, रंगदारी आदि के लगभग 42 आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह जमानत पर बाहर चल रहा था। पुलिस उपाधीक्षक होडल मौजीराम ने बताया कि मंगलवार रात सूचना मिली कि पवन उर्फ हरिया दिल्ली के दलपुरा इलाके में अपनी रिश्तेदारी में जा रहा है। इस पर रात करीब डेढ़ बजे पुलिस ने उसे दलपुरा नहर के पास मोड़ पर दबोच लिया।

दिनभर रही आत्मसमर्पण की चर्चा

पलवल पुलिस भले ही हरिया की गिरफ्तारी के दावे करे, लेकिन अलवर सहित हरियाणा में बुधवार सुबह से ही हरिया के आत्म समर्पण की चर्चा रही। पूरे दिन पलवल पुलिस भी मामले के खुलासे से बचती रही। अलवर पुलिस से भी उसने दूरी बनाए रखी। देर शाम पुलिस ने हरिया की गिरफ्तारी की बात मीडिया के सामने रखी। पुलिस सूत्रों के अनुसार अपने खास गुर्गे अरुण के एनकाउंटर के बाद हरिया आत्मसमर्पण के लिए प्रयासरत था। पहले उसने यूपी एसटीएफ के समक्ष आत्म समर्पण का प्रस्ताव रखा। बाद में फरीदाबाद सीआईए से गुहार लगाई। दोनों जगह से नाउम्मीद होने पर बुधवार सुबह उसके पलवल पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण की बात सामने आई। हालांकि बाद में पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी की बात बताई।

3.50 लाख में बेचे जेवरात
नीमराणा में ज्वेलर से लूट के बाद हरिया ने जेवरात केवल साढ़े तीन लाख रुपए में बेच दिए। जेवरात को बेचने उसका खास गुर्गा अरुण गुर्जर गया। पूछताछ में पवन उर्फ हरिया ने बताया कि लूट के कुछ घंटो बाद ही उसने जेवरातों को बेच दिया था।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned