scriptहिन्दी के स्कूल अंग्रेजी माध्यम में कर दिए, पर शिक्षक अभी तक नहीं लगाए….पढ़ें यह न्यूज | Patrika News
अलवर

हिन्दी के स्कूल अंग्रेजी माध्यम में कर दिए, पर शिक्षक अभी तक नहीं लगाए….पढ़ें यह न्यूज

बच्चों का भविष्य चौपट होते देख घटने लगा नामांकन, ग्रामीणों में भी गहरा रोष। पाठ्यक्रम लेकर साथ किया प्रदर्शन।

अलवरJul 10, 2024 / 05:08 pm

Ramkaran Katariya

मालाखेड़ा. शिक्षा विभाग की उदासीनता के चलते अलवर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत जमालपुर के गांव मिर्जापुर को अंग्रेजी माध्यम का बनाने के बाद भी स्कूल में इंग्लिश मीडियम के स्टाफ की नियुक्ति नहीं की गई, जिससे बच्चों का भविष्य चौपट होने से ग्रामीणों में रोष है। ग्रामीणों के अनुसार अंग्रेजी माध्यम के चलते कक्षा 6 में प्रवेश भी नहीं लिया गया, जिसके चलते रोजाना नामांकन कम होता जा रहा है। इसे लेकर आक्रोशित ग्रामीण मिडिल स्कूल मिर्जापुर में पहुंचे और नाराजगी व्यक्त की, वही तालाबंदी की सूचना पर पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी रोहिताश ओसवाल भी वहां पहुंच गए।
ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि तीन शिक्षक लापरवाह बने हुए हैं, जिससे स्कूल का माहौल बिगड़ रहा है। उन्हें तुरंत प्रभाव से यहां से स्थानांतरित किया जाए। इस पर मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को अवगत कराने के बाद दो शिक्षक मिर्जापुर स्कूल से जमालपुर में लगाए तथा एक शिक्षक मूंडिया स्कूल में भेज कर मूंडिया से मिर्जापुर स्कूल में नियुक्त किया। उधर ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई मुहैया हो, इसके लिए विद्यालय को इंग्लिश मीडियम का तो बनाया, लेकिन अभी तक स्टाफ नहीं आया।
गांव के रमेश चंद्र, नरेंद्र सिंह, भीम सिंह, विक्रम सहित अन्य लोगों ने बताया कि अंग्रेजी मीडियम स्कूल में स्टाफ लगना जरूरी है। अगर नहीं लगाया तो सभी बच्चों का नाम कटवा लेंगे या फिर इस स्कूल को सामान्य स्कूल ही बनाया जाए, जिससे वह यहां पर रहकर पढ़ सके। उनका भविष्य भी खराब नहीं हो। गौरतलब है कि उपनिदेशक महात्मा गांधी विद्यालय माध्यमिक शिक्षा बीकानेर ने 9 अक्टूबर 2023 को आदेश जारी करते हुए महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय में इस स्कूल को रूपांतरित कर दिया तथा कक्षा 6 से 8 तक के नए प्रवेश इस शैक्षणिक सत्र में शुरू करने के निर्देश भी दिए, लेकिन शैक्षणिक सत्र में प्रवेश ही नहीं हुए। अब वर्तमान में शैक्षणिक सत्र 2024 -25 संचालित है। उसमें भी प्रवेश नहीं किए गए हैं।
प्रवेश के निर्देश दे दिए

मामले में पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी रोहिताश ओसवाल का कहना है कि पोर्टल पर नए प्रवेश की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इसके निर्देश दे दिए गए हैं। फिलहाल स्थाई प्रधानाध्यापक नहीं है। कार्यवाहक से ही कार्य चल रहा है।
कार्रवाई कराई जाएगी

नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को निजी स्कूलों की तर्ज पर अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा मिले, इसीलिए मिर्जापुर की स्कूल को क्रमोन्नत कराया गया। विद्यालय में ऑनलाइन पोर्टल के अनुसार अंग्रेजी माध्यम का पाठ्यक्रम पहुंच गया, लेकिन दुर्भाग्य है वहां शिक्षक नहीं लगाए। इसे विधानसभा में प्रश्न पूछ कर जानकारी ली जाएगी। दोषी के खिलाफ कार्रवाई कराई जाएगी। बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ सहन नहीं होगा।

Hindi News/ Alwar / हिन्दी के स्कूल अंग्रेजी माध्यम में कर दिए, पर शिक्षक अभी तक नहीं लगाए….पढ़ें यह न्यूज

ट्रेंडिंग वीडियो