सडक़ पर बने गड्ढे दे रहे हादसे को न्योता

बीस किलोमीटर तक सडक़ हुई जर्जर

By: Shyam

Published: 13 Aug 2019, 05:42 PM IST

नारायणपुर. कुशालगढ से नारायणपुर तक सडक़ जर्जर होने पर राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। करीब 20 किलोमीटर लम्बे इस सडक़ मार्ग में बने गड्ढे हादसे को न्योता दे रहे हैं।
सडक़ की गारंटी अवधि पिछले साल ही समाप्त हो गई है। नियमानुसार गारंटी अवधि समाप्त होने से पहले सडक़ की मरम्मत व पेचवर्क कार्य कराया जाता है। लेकिन सडक़ की हालत देख कर हर कोई आसानी से अंदाजा लगा सकता है कि इस सडक़ पर वर्षो से पेचवर्क कार्य नहीं हुआ है। सडक़ की परते उधड़ी पडी है। जिस पर डामर नाम की चीज नहीं है। गिट्टियां सडक़ से बाहर फैल रही है। सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी गारंटी अवधि की समाप्ति पर पेचवर्क का दावा कर रही है। इधर, तालवृक्ष से कुशालगढ तक सडक़ मार्ग के दोनों ओर बनी पटरी पर बिलायती बबूल के पेड होपे के कारण वाहन चालको को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

कुशालगढ से नारायणपुर का यह सडक़ मार्ग इतना जर्जर है कि वाहन के साथ इस मार्ग पर धूल का गुबार उड़ते रहते हैं। कुशालगढ़ से नारायणपुर मार्ग एनएच 248 ए में आ गया है। लेकिन इस सडक़ को सार्वजनिक निर्माण विभाग एनएच के हैण्डओवर नहीं किया है। इस से इस मार्ग को दुरूस्त करने की जिम्मेदारी अभी सार्वजनिक निर्माण विभाग पर है। अब एनएच इस की डीपीआर तैयार करने में लगी हुई है।

 

Shyam Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned