सरकारी नर्सिंग हॉस्टल में खुली पड़ी है पानी की टंकियां, जमा हुआ है पानी

सरकारी नर्सिंग हॉस्टल में खुली पड़ी है पानी की टंकियां, जमा हुआ है पानी
hostal

Jyoti Sharma | Updated: 16 Aug 2019, 01:31:36 PM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

फोटो - दूसरों को दे रहे नसीयत, खूद नहीं कर रहे अमल

सरकारी नर्सिंग हॉस्टल में खुली पड़ी है पानी की टंकियां, जमा हुआ है पानी

अलवर. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग आमजन को मौसमी बीमारियों को रोकने के लिए साफ सफाई रखने और पानी को ढकक़र रखने का संदेश दे रहा है। बीमारी को रोकने के लिए दवाईयां दी जा रही है यहां तक की टीके भी लगाए जा रहे हैं। लेकिन विभाग खुद इस पर अमल नहीं कर रहा है।

जनाना अस्पताल के पास बने नर्सिंग हॉस्टल में रहने वाली छात्राएं नर्सिंग का प्रशिक्षण ले रही है, लेकिन ये छात्राएं स्वयं आज विभाग की लापरवाही का शिकार हो रही है। ये वो छात्राएं हैं जो अस्पताल में आने वाले मरीजों को तथा आमजन को आए दिन स्वच्छता का पाठ पढ़ाती है।

हॉस्टल की छात्राओं के उपयोग के लिए छत रखी गई पानी की टंकियों पर ढक्कन नहीं है। इस पानी में आए दिन बंदर नहाते रहते हैं। ऐसे में पानी खराब होने के बाद भी इस पानी का उपयोग करना इनकी मजबूरी है। गंदे पानी के प्रयोग से स्कीन डिजिज जैसी समस्याएं पनन सकती हैं। इतना ही नहीं हॉस्टल के पास ही पिछले कई दिनों से बरसाती पानी जमा हुआ है। इस पानी की वजह से यहां पर मच्छर पनप रहे हैं। यहां पास में ही जनाना अस्पताल है जिसमें प्रसुताएं और शिशु भर्ती है। अस्पताल की खिड़कियां टूटी होने के कारण यहां से मच्छर प्रसुता और शिशुओं को नुकसान पहुंचा रहे हैं। लेकिन इसके बाद भी आज तक इस पानी को यहां से निकाला नहीं गया है। हॉस्टल के सामने ही पिछले काफी समय से बॉयोमेडिकल वेस्ट पड़ा हुआ है। जिसकी बदबू और गंदगी से छात्राएं परेशान है । लेकिन इसके बाद भी इस कचरे को यहां से हटाया नहीं जा रहा है। जिससे नर्सिग का प्रशिक्षण ले रही छात्राओं में बीमारी फैलने का संदेशा बना रहता है।

छात्राओं ने बताया कि सफाईकर्मी महिला यहां अच्छी तरह से सफाई नहीं करती है। इससे शौचालय व टॉयलेट में गंदगी रहती है। इधर, हॉस्टल वार्डन पूजा मीणा ने बताया कि पानी टैंकरों से डलवाया जाता है। टंकियों के ढक्कन बंदरों ने तोड़ दिए इसके कारण खुली हुई है। इन टंकियों का उपयोग पीने के लिए नहीं होता है। जमा पानी तथा बायोमेडिकल वेस्ट को हटाने के लिए कई बार कहां जा चुका है । लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned