scriptJimmi Sharma Of Alwar Make Transport Company In America | सफलता: मां ने सिलाई से पैसे जोडकऱ बेटे को इंजीनियर बनाया, 24 वर्षीय जिमी ने सात समुद्र पार खड़ी की ट्रांसपोर्ट कंपनी | Patrika News

सफलता: मां ने सिलाई से पैसे जोडकऱ बेटे को इंजीनियर बनाया, 24 वर्षीय जिमी ने सात समुद्र पार खड़ी की ट्रांसपोर्ट कंपनी

जिमी 24 साल की उम्र में अमरीका के कैलिफॉर्निया में ट्रांसपोर्ट कंपनी चलाते हैं। वे इंजीनियरिंग करने के बाद नौकरी की तलाश में अमरीका चले गए।

अलवर

Updated: January 12, 2022 07:00:36 pm

अलवर. संघर्ष सबके जीवन में है। मुश्किलों में कोई बिखर जाता है तो कोई मजबूत हौसलों से निखर जाता है। अलवर जिले के मुंडावर पंचायत समिति के गांव रसगन के एक परिवार ने मुश्किलों के सामने हार नहीं मानी। बेटे को पढ़ा-लिखाकर इंजीनियर बनाया। बेटे ने 24 साल की उम्र में सात समुद्र पार ट्रांसपोर्ट कंपनी खड़ी कर दी।
Jimmi Sharma Of Alwar Make Transport Company In America
सफलता: मां ने सिलाई से पैसे जोडकऱ बेटे को इंजीनियर बनाया, 24 वर्षीय जिमी ने सात समुद्र पार खड़ी की ट्रांसपोर्ट कंपनी
राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर हम बात कर रहे हैं मुंडावर पंचायत समिति के गांव रसगन निवासी 24 वर्षीय जिमी शर्मा की। जिमी 24 साल की उम्र में अमरीका के कैलिफॉर्निया में ट्रांसपोर्ट कंपनी चलाते हैं। वे इंजीनियरिंग करने के बाद नौकरी की तलाश में अमरीका चले गए। लेकिन उधर स्वयं का व्यवसाय शुरू करने का सोचा । वहीं पर ही ट्रक चलाना सीखा। कुछ माह बाद पैसे उधार लेकर ट्रक खरीदा। अब उन्होंने अमरीका में ट्रांसपोर्ट कंपनी खड़ी कर दी है। वे स्वयं भी ट्रक चलाते हैं। भारतीय मूल्यों में ट्रक की कीमत लगभग डेढ़ करोड़ रुपए है।
परिवार अलग हुआ तब केवल एक किलो आटा था

28 साल पहले परिजनों ने जिमी के माता-पिता को एक किलो आटा देकर अलग किया था। इसके बाद वे एक कमरे में रहने लगे। जिमी की मां उषा ने सिलाई का काम शुरू किया। सिलाई के काम से ही उनका घर चलता। बाद में उनके पिता सुभाष शर्मा ने रैणागिरी में प्रसाद की दुकान खोल ली। पाई-पाई जोडकऱ दो बेटों व एक बेटी को शिक्षित किया। सबसे छोटे जिमी को इंजीनियरिंग के लिए जयपुर भेज दिया। जहां से जिमी अमरीका चला गया और ट्रांसपोर्ट का व्यवसाय शुरू किया।
पाई-पाई जोडकऱ काबिल बनाया, अब डॉलर में कमाई

परिवार ने संघर्ष के दिनों में पाई-पाई जोडकऱ बेटे को काबिल बनाया। अब जिमी की अमरीकी करेंसी में कमाई है। परिवार को अमरीकी करेंसी में ही पैसे भेजता है, जो यहां भारतीय मुद्रा में बदले जाते हैं। उनका ट्रक भी लग्जरी है। जिमी का कहना है कि उनके परिवार ने मुश्किल दिन देखे हैं, अब वे कड़ी मेहनत कर माता-पिता के सपने रोशन करने का प्रयास कर रहे हैं। जिमी के बड़े भाई शिक्षक हैं, वहीं बहन पढ़ाई कर रही हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 5,760 नए मामले, संक्रमण दर 11.79%Republic Day 2022 parade guidelines: कोरोना की दोनों वैक्सीन ले चुके लोग ही इस बार परेड देखने जा सकेंगे, जानिए पूरी गाइडलाइन्सएमपी में तैयार हो रही सैंकड़ों फूड प्रोसेसिंग यूनिट, हजारों लोगों को मिलेगा कामकांग्रेस के तीन घोषित प्रत्याशी पार्टी छोड़ कर भागे, प्रियंका गांधी हुई हैरानDelhi Metro: गणतंत्र दिवस पर इन रूटों पर नहीं कर सकेंगे सफर, DMRC ने जारी की एडवाइजरीदलित का घोड़े पर बैठना नहीं आया रास, दूल्हे के घर पर तोड़फोड़, महिलाओं को पीटाNational Voters' Day: पहली बार वोट देने वाले जानें अपने अधिकार और जिम्मेदारी के बारे मेंराज्य की तकदीर बदलने वाली योजनाएं केन्द्र में अटकी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.