चुनाव लडऩा चाहते हैं तो 10 जनवरी तक भरे नामांकन

लोकसभा उपचुनाव के लिए जिला स्तर पर चुनाव नियंत्रण कक्ष एवं हेल्पलाइन का गठन किया गया है।

By: Himanshu Sharma

Published: 04 Jan 2018, 12:51 PM IST

लोकसभा उपचुनाव-2018 की विधिवत अधिसूचना जारी होने के साथ बुधवार से नाम-निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने का कार्य प्रारम्भ हो गया है। आगामी सात दिन में नामांकन भरे जाएंगे।


रिटर्निंग अधिकारी राजन विशाल ने बताया कि अभ्यर्थी 10 जनवरी तक नाम निर्देशन पत्र रिटर्निंग ऑफिसर या सहायक रिटर्निंग ऑफिसर राकेश कुमार को (लोक अवकाश छोड़कर) सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय के कमरा नं. 1 में प्रस्तुत कर सकेंगे। नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा 11 जनवरी को की जाएगी एवं 15 जनवरी को दोपहर 3 बजे तक नाम वापस ले सकेंगे । 29 जनवरी को प्रात: 8 बजे से 6 बजे तक मतदान होगा।

उन्होंने बताया कि नामांकन प्रस्तुत करते समय रिटर्निंग ऑफिसर कक्ष में प्रत्याशी सहित 5 से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं हो सकेंगे। उन्होंने बताया कि नाम निर्देशन प्रस्तुत करने के दौरान अभ्यर्थी के साथ चलने वाले काफिले में तीन से अधिक वाहन रिटर्निंग अधिकारी कार्यालय के 100 मीटर के दायरे में प्रवेश नहीं कर सकेंगे।

 

हेल्पलाइन का गठन

लोकसभा उपचुनाव के लिए जिला स्तर पर चुनाव नियंत्रण कक्ष एवं हेल्पलाइन का गठन किया गया है। जिला निर्वाचन अधिकारी राजन विशाल ने बताया कि नियंत्रण कक्ष के प्रभारी अधिकारी उप जिला निर्वाचन अधिकारी (एडीएम प्रथम) राकेश कुमार गढ़वाल (मोबाइल नं. 9461059603) एवं सहायक प्रभारी अधिकारी मुख्य आयोजना अधिकारी राजकुमार नावरिया (मोबाइल नं. 9413906260) को नियुक्त किया गया है। चुनाव नियंत्रण कक्ष एवं हेल्पलाइन के दूरभाष नं. 0144-2736302 रहेंगे।

 

प्रशिक्षण 6 जनवरी को

लोकसभा उपचुनाव के लिए ईवीएम व वीवीपैट मशीन का प्रशिक्षण 6 जनवरी को प्रात: 11 बजे से प्रताप ऑडिटोरियम में दिया जाएगा।

लोकसभा उपचुनाव में जिले की राजस्व सीमा क्षेत्र में ध्वनि विस्तारक यंत्र , उपकरण एवं एम्प्लीफायरों (जिसमें वाहन के एयर प्रेशर हॉर्न भी शामिल हैं) के प्रयोग पर रात्रि 10 बजे से प्रात: 6 बजे तक पूर्ण पाबंदी रहेगी।
जिला मजिस्ट्रेट ने बताया कि रात्रि 10 बजे से प्रात: 6 बजे के अलावा शेष अवधि में ध्वनि विस्ताक यंत्र, उपकरणों का उपयोग करने के लिए अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट शहर या संबंधित क्षेत्र के उपखण्ड मजिस्ट्रेट से लिखित अनुमति लेनी होगी। अनुमति के लिए प्रार्थी को ध्वनि विस्तारक यंत्रों के उपयोग का प्रयोजन, स्थान, अवधि, समय, वाहन का प्रकार एवं संख्या, क्षेत्र का पूरा विवरण अपने प्रार्थना पत्र में अंकित कर संबंधित अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करना होगा। अनुमति प्राप्त करने के उपरांत उसे उपयोग स्थल पर साथ रखना होगा। शादी-उत्सव, विवाह पर ध्वनि विस्ताक यंत्रों/उपकरणों एवं एम्प्लीफायरों के उपयोग में धीमी गति से उपयोग की छूट रहेगी। यह प्रतिबंध आगामी 3 फरवरी मध्य रात्रि तक प्रभावी रहेगा।

Himanshu Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned